बुलंदशहर, जेएनएन। बढ़ती महंगाई के इस दौर में देश में भुखमरी के चलते जहां हजारों लोग काल के गाल में समा रहे हैं। वहीं खुर्जा निवासी समाजसेवी डा. शलभ शर्मा नजीर पेश कर रहे हैं। वह ऐसे गरीबों के मसीहा है, जिनके पास पैसे तो होते हैं, लेकिन इतने नहीं की वे उनसे अपने परिवार का पेट भर सकें। ऐसे ही गरीबों की खोलियों में सात दिन में एक बार शलभ शर्मा अपनी टीम के साथ पहुंच जाते हैं और उन्हें खाना खिलाते हैं। खाना खिलाने के अलावा वह उन्होंने खाद्य वस्तु भी उपलब्ध कराते हैं। जिससे ऐसे गरीब परिवार को भूखे पेट ना सोना पड़े। उनकी इस मुहिम के चलते कई संस्थाओं द्वारा उन्हें सम्मानित भी किया जा चुका है। वहीं दूसरी तरफ लोगों का सहयोग भी उन्हें मिलता है।

भीख मांगते देख आया विचार

खुर्जा के हनुमान टीला मार्ग निवासी 30 वर्षीय डा. शलभ शर्मा पुत्र नरेशचंद्र शर्मा जब 2006 में इंटरमीडिएट की पढ़ाई कर रहे थे, तो उन्हें स्कूल आते-जाते समय सड़क किनारे गरीब परिवार के बच्चे और महिलाएं भीख मांगते हुए दिखाई देते थे। भीख मांगने का कारण पूछे जाने पर वह बताते थे कि उनके पास भर पेट भोजन के पैसे नहीं है। जिसको लेकर शलभ के मन में अजीब से पीड़ा होती थी। जिसके बाद उन्होंने ऐसे गरीबों को दो वक्त की रोटी उपलब्ध कराने का मन बना लिया था। इसके लिए 2013 में बीएमएस कर वह खुद सक्षम हुए। जिससे उन्हें किसी के सामने हाथ फैलाने ना पड़े। शुरूआत में वह एक माह में एक बार गरीबों की खोली तक पहुंचे और उन्हें खाना खिलाने के साथ-साथ खाद्य सामग्री उपलब्ध कराना शुरू कर दिया। वर्ष 2016 में समाजसेवा के उद्देश्य से बनाई संस्था

वर्ष 2016 में डा. शलभ शर्मा ने लार्ड कृष्णा मेक अ हेल्प फाउडेशन संस्था रजिस्टर कराई। जिसके बाद सप्ताह में एक बार उन्होंने गरीबों की बस्ती में जाकर उन्हें खाना खिलाना शुरू कर दिया। इस नेक काम में उन्होंने समाजसेवी गौरव शर्मा, पीयूष भारद्वाज, धमेंद्र सिंह, डा. मोहनलाल, हरेंद्र सिंह, लीतेश्वर शर्मा, डा. शशि बाला नई दिल्ली, संतोष शर्मा आदि को संस्था में शामिल किया और उनसे भी गरीबों की मदद करने में सहयोग लेना शुरू कर दिया। वर्तमान में उनका कारवां लगातार बढ़ता हुआ जा रहा है।

....

मेरी तमन्ना है कि कोई गरीब भूखे पेट ना सोए। इसको लेकर सरकार के साथ-साथ समाजसेवियों को भी आगे आना चाहिए। लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से गांवों में रैली निकालकर अभियान चलाया जाता है। जिससे लोग गरीबों की सेवा करने के लिए जागरूक हो और उनका दर्द समझ सके।

--डा. शलभ शर्मा, अध्यक्ष लार्ड कृष्णा मेक-अ-हेल्प फाउंडेशन संस्था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस