बुलंदशहर, जेएनएन। पिछले कुछ दिनों से मौसम में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है। अब पिछले दो दिनों से हुई बेमौसम तेज हवाओं के साथ बरसात होने से गेहूं-सरसो की फसलें गिर गई हैं। जिससे फसलों में काफी नुकसान हुआ है। किसानों की मानें तो गेहूं की फसल में अब 60 प्रतिशत का नुकसान हुआ है और दाने के कमजोर होने की किसान आशंका जता रहे हैं। वहीं सरसो की पकी खड़ी और काटने के बाद खेतों में पड़ी फसल लगभग पूरी तरह से बर्बादी के कगार पर हैं। फसलों में भारी नुकसान होने के बाद किसान मुआवजे की मांग उठाने लगे हैं। दूसरी ओर बरसात के कारण अधिकांश मार्गों पर जलभराव की समस्या भी बनी हुई है। खुर्जा के पदम की पुलिया मार्ग पर दिनभर जलभराव की समस्या बनी रही। इससे राहगीरों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। इसके अलावा कई कालोनियों में भी जलभराव ने लोगों की परेशानी को बढ़ा दिया।

.........

दर्जनों गांवों की विद्युत आपूर्ति गुल

बुधवार रात को हुई बरसात के बाद गुरुवार को ऊर्जा निगम के कर्मियों ने सुबह से ही जुटकर गांवों की विद्युत आपूर्ति को दुरुस्त किया था। जिसके बाद गुरुवार रात को फिर से बरसात के कारण लाइनों में फाल्ट आ गया। जिस कारण अरनिया विद्युत उपकेंद्र से जुड़े मुनी, अरनियां, रुकनपुर, क्योली, दशहरा सहित करीब 50 गांवों की बिजली आपूर्ति रातभर गुल रही। इससे लोगों को काफी परेशानी हुई।

संवाद सूत्र, शिकारपुर: तेज बारिश और आंधी के चलते मेरठ-बदायूं स्टेट हाईवे स्थित गांव चितसोन और सलेमपुर के बीच 33 केवीए लाइन का खंभा सड़क पर टूटकर तिरछा हो गया। जिससे बड़े वाहनों की आवाजाही में काफी दिक्कत रही। काफी देर बाद बिजली विभाग के कर्मचारियों ने खंभे को ठीक किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस