सिकंदराबाद: कोतवाली क्षेत्र के गांव सांसियागढ़ी में आए दिन दबिश व परिजनों को गिरफ्तार करने पर महिलाओं ने जमकर हंगामा किया। पुलिस पर कच्ची शराब बनाने व बेचने के झूठे आरोप में फंसाने का आरोप लगाया। हंगामे को देख पुलिस ने महिलाओं को समझा बुझाकर शांत कराया।

गौरतलब हो कि सिकंदराबाद देहात का गांव सांसियागढ़ी कच्ची शराब बनाने व बेचने के नाम से विख्यात है। जहां चुनाव आचार संहिता के बाद पुलिस की लगातार दबिश दे रही है। रविवार दोपहर भारी तादाद में कोतवाली पहुंची सांसियागढ़ी निवासी महिलाओं ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाते हुए हंगामा किया। बताया कि गांव का नाम बदनाम होने पर अब कच्ची की शराब नहीं बनती। जो बनाते है, वे पुलिस संरक्षण में कारोबार करते है, लेकिन पुलिस उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं करती है। आरोपितों के घरों से शराब बरामद कर निर्दोष लोगों को हिरासत में ले जाती है और छोड़ने की एवज में रकम न देने पर उन पर ही कच्ची शराब बरामद दर्शा कर उत्पीड़न कर रही है। महिलाओं ने बताया कि उनके परिवार के पुरूष अब मजदूरी और महिला भट्टे आदि पर काम कर पालन पोषण कर रही है। शनिवार की रात भी एक युवक को घर से सोते समय हिरासत में लेकर नगदी की मांग की। कोतवाली में हालत बिगड़ने पर छोड़ दिया। कोतवाली निरीक्षक अवनीश गौतम ने बताया कि गांव में कच्ची शराब बनाने व उसके स्टाक के साथ सप्लाई की सूचना पर दबिश दी जाती है। जो जारी रहेगी। महिलाओं के आरोप बेबुनियाद है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप