बुलंदशहर,जेएनएन। विशेष पोक्सो अदालत ने मंगलवार को अगौता थाने में तैनात एक दारोगा समेत सात पुलिसकर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश दिए हैं। इन पुलिसकर्मियों पर आरोप है कि वह एक महिला के घर में घुस गए और उन्होंने महिला की दो बेटियों के कपड़े फाड़ दिए और दुष्कर्म का प्रयास किया। महिला ने उच्चाधिकारियों को से भी गुहार लगाई, लेकिन उनकी एक नहीं सुनी गई।

दबिश के दौरान की थी अभद्रता

अधिवक्ता मोहम्मद वसीम ने बताया कि 19 नवंबर 2019 की रात करीब साढ़े 11 बजे अगौता थाने में तैनात दारोगा मुनेश त्यागी ने छह अन्य पुलिसकर्मियों के साथ मिलकर एक महिला के घर में दबिश दी। महिला से उसके पति के बारे में जानकारी मांगी गई। महिला ने बताया कि उसका पति बाहर गया हुआ है। घर पर नहीं है। बावजूद इसके पुलिसकर्मियों ने घर में तोड़फोड़ शुरू कर दी। जिसका महिला ने विरोध किया। उसकी नाबालिग दो पुत्रियों ने भी विरोध किया।

तब एसएसपी को दी थी जानकारी

आरोप है कि उसकी दोनों बेटियों के पुलिसकर्मियों ने कपड़े तक फाड़ दिए थे। उन्हें एक कमरे में ले जाकर पुलिसकर्मियों ने दुष्कर्म का प्रयास किया। महिला ने शोर मचाया तो पड़ोसी आ गए। जिसके बाद पुलिसकर्मी महिला के घर से चले गए। बाद में महिला ने एसएसपी और डीएम के सरकारी नंबर पर फोन करके सूचना दी। कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसके बाद महिला ने अदालत का दरवाजा खटखटाया। अब अदालत ने अगौता थाना प्रभारी को आदेश दिया है कि वह मुकदमा दर्ज करके अदालत को रिपोर्ट करें। 

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस