जेएनएन, बुलंदशहर। कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर जिले में चल रही हीला-हवाली अब समाप्त होने जा रही है। शासन के निर्देश पर अब एक जुलाई से कोविड वैक्सीनेशन की रफ्तार को बढ़ाने के लिए शासन के निर्देश पर क्लस्टर ग्रुप में बांटकर टीकाकरण का महाअभियान चलाया जाएगा। डोर-टू-डोर टीकाकरण के लिए बुलावा पर्ची भेजी जाएगी। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने अपनी तैयारी पूरी कर ली है। गांव-देहात में अभियान को सफल बनाने के लिए ग्राम प्रधान, शिक्षक, लेखपाल, पंचायत सेक्रेटरी तथा आंगनबाड़ी जोड़ा गया है। विभाग ने होमवर्क कर तैयारी पूरी कर ली है।

प्रदेश के अपर मुख्य सचिव-स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद का कहना है कि अगले महीने से और अधिक ध्यान देने के साथ विस्तृत कार्ययोजना बनाने की जरूरत है। इसके तहत ग्रामीण क्षेत्रों के लिए विकास खंड को तथा शहरी क्षेत्र में शहरी निकाय को इकाई के रूप में लेकर कार्ययोजना बनानी है। प्रत्येक ब्लाक को एक इकाई मानते हुए उन्हें क्लस्टर में बांटा जाएगा। इसके लिए प्रत्येक ब्लाक में 10 से 12 क्लस्टर बनाए जाएंगे। इसमें कोशिश रहेगी कि टीकाकरण टीम सभी क्लस्टर्स में एक बार अवश्य पहुंचाए जाएं। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग माइक्रोप्लान तैयार कर रहा है। एसीएमओ डा. सुष्पेंद्र कुमार का कहना है कि कार्ययोजना के मुताबिक प्रत्येक क्लस्टर के लिए टीकाकरण की तिथियों एवं स्थान पूर्व से ही घोषित कर दिए जायेंगे। इन सभी स्थलों पर रजिस्ट्रेशन करने की सुविधा होगी और घर के नजदीक ही केंद्र बनाकर टीकाकरण कराया जाएगा। इसके लिए उपयुक्त भवनों जैसे पंचायत घर, विद्यालय भवन या अन्य परिसर को उपयोग में लिया जाएगा। साथ ही इस आशा के माध्यम से लोगों के घरों पर बुलावा पर्ची भेजी जाएगी। जिसमें टीकाकरण तिथि और स्थान का उल्लेख होगा। उन्होंने बताया कि, क्लस्टर में टीकाकरण के लिए अनुकूल वातावरण तैयार करने के लिए हर राजस्व ग्राम में मोबीलाइजेशन टीम बनेगी, जिसमें ग्राम प्रधान, लेखपाल, आशा-आंगनबाड़ी, प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक तथा पंचायत सेक्रेटरी शामिल होंगे। इनका काम टीकाकरण को लेकर बनी संशय की स्थिति को दूर करना और टीकाकरण के लिए प्रेरित करना होगा।

Edited By: Jagran