बुलंदशहर, जेएनएन: नगर का अंसारी रोड चौराहा रात्रि दस बजकर 20 मिनट पर राम बरात के आगमन की प्रतिक्षा में शांत भाव में महिला और पुरुष बैठे थे। बरात के स्वागत के लिए महिला और पुरुष उत्सुकता के साथ इंतजार कर रहे थे। दूर से आती आतिशबाजी की आवाज इस सन्नाटे को झकझोर रहीं है। तभी वह पल आता है जब भगवान श्री राम के मिथिला में प्रवेश करते ही अचानक चारों तरफ पसरा सन्नाटा दूर हो जाता है।

श्री रामलीला सभा द्वारा मंगलवार की दोपहर श्री राम बरात की शुरुआत की जाती है। घोड़ों पर सवार राम, लक्ष्मण, राजा दशरथ तथा अन्य लोग नगाड़ो की थाप और बैंड बाजे के साथ बारात लेकर नगर के विभिन्न मोहल्लों से गुजर रहीं है। राम बारात का जगह-जगह फूलों की वर्षा कर जोरदार स्वागत किया जा रहा है। भजन मंडली आगे-आगे भजन कीर्तन गाते हुए चल रही है। बारात के स्वागत के बाद महिलाएं भगवान श्री राम पर तंज कसने से भी नहीं चूक रहीं। मिथला की महिलाओं तरह-तरह से तंज कस कर रही हैं। इसके बाद महारानी भगवान श्री राम का आरती करने के लिए आती है। महिलाएं मंगल गीत जनकपुरी तुम्हे रघुवर मुबारक हो मुबारक, बलैया लेने को आईं छोटी साली, बड़ी साली, सिया जैसी दुल्हन तुमको मुबारक हो ,अवध से आज मिथला में लुटाने प्यार आएं हैं जमीं का जर्रा-जर्रा है नहाया चांदनी से आज गाकर भगवान श्री राम और सीता माता का गुणगान कर रहीं है। मंगल गीत रात के सन्नाटे को तोड़ कर मंगलमयी माहौल में समेट रहे हैं। आरती के बाद जयमाला कार्यक्रम की तैयारी शुरू होने लगती है। सीता जी अपने सहेलियों के साथ भगवान श्री राम के गले में जयमाला डालने के लिए आगे आती है। वैसे लोगों के मोबाइल जयमाला के इस अछ्वुत नजारे को अपने मोबाइलों में कैद करने के लिए धीरे-धीरे जयमाला स्टेज की तरफ बढ़ने लगते है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप