बुलंदशहर, जेएनएन। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के साथ जनपद में भी दिल्ली के लिए सीधी ट्रेन सेवा की मांग काफी समय से लंबित पड़ी हुई है। वहीं, बुलंदशहर-स्याना गढ़ एक्सप्रेस का फोरलेन बनाने का काम शुरू होने का इंतजार जिले के लोग बेसब्री से कर रहे हैं, लेकिन अभी तक काम शुरू नहीं हो पाया है। उधर, कई दशक से शहर में रिग रोड की मांग भी लंबित है। जिससे जनपद के आधारभूत ढांचे में अभी काफी सुधार होना बाकी रह गया है।

जनपद की तहसील स्याना के आठ गांवों से गंगा एक्सप्रेस वे के लिए भूमि अधिग्रहण का काम अंतिम चरण में चल रहा है। उधर, जनपद में पिछले कई दशक से दिल्ली के लिए सीधी ट्रेन सेवा की मांग लंबित है, लेकिन अभी तक दिल्ली के लिए सीधी ट्रेन सेवा किले को नहीं मिल पाई है। वर्ष 2016 में एनएच-235 का शिलान्यास करने आए केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गड़करी ने जनपद में रिग रोड बनाने की घोषणा की थी।

इसके बाद तत्कालीन डीएम डा. रोशन जैकब ने 2017 में रिग रोड की डीपीआर तैयार कराकर प्रदेश सरकार को भेज दी थी। प्रदेश सरकार की अनापत्ति मिलने के बाद डीपीआर फाइलों में दबी हुई है। रिग रोड निर्माण से शहर को जाम के झाम से मुक्ति मिलेगी। रिग रोड से के माध्यम से ऐसे वाहनों को शहर के बाहर से ही निकाला जा सकेगा, जिन्हें दूर जाना है और शहर में प्रवेश नहीं करना है, लेकिन अभी तक रिग रोड पर मुहर नहीं लग पाई है।

....

प्रस्तावित रिग रोड

प्रस्तावित रिग रोड दिल्ली रोड स्थित गांव अढौली से शुरू होकर एनएच-235 पर गांव कमालपुर से काजीपुरा आबादी के ऊपर से निकल बुलंदशहर-स्याना एनएच पर इमलिया पर मिलेगा। वहीं, बुलंदशहर-अनूपशहर मार्ग पर ग्राम हजरतपुर-समसपुर से शुरू होकर बुलंदशहर-डिबाई राजमार्ग पर नया गांव के पहले गुजरते हुए रमपुरा से निकलकर वलीपुरा पर एचएच-91 पर मिलेगा।

.....

भेजी गई डीपीआर पर नजर

रिग रोड की लंबाई - 45 किलो मी,

रिग रोड के लिए भूमि अधिग्रहण-114 हेक्टेयर ,

भूमि अधिग्रहण के लिए धनराशि -501 करोड़ ,

पुल निर्माण की धनराशि -40 करोड़ रुपये,

यूटीलिटी शिफ्टिग -30 करोड़ रुपये,

अंडर पास निर्माण -10 करोड़ रुपये,

रिग रोड पर खर्च होने वाली अनुमानित धनराशि-952 करोड़ रुपये

.....

इन्होंने कहा..

रिग रोड निर्माण के लिए डीपीआर तैयार कर केंद्र सरकार को काफी समय पहले भेज दी गई है। डीपीआर में रिग रोड निर्माण पर अनुमानित 952 करोड़ रुपये की धनराशि खर्च होगी। अभी तक कोई निर्देश शासन की ओर से प्राप्त नहीं हुए हैं। उधर, विश्व बैंक ने बुलंदशहर स्याना गढ़ एक्सप्रेसवे को फोरलेन बनाने के लिए डीपीआर तैयार कर ली है। जून के अंत तक फोरलेन निर्माण शुरू होने की उम्मीद है।

-जगदीश सिंह, एक्सईएन पीडब्ल्यूडी

---

स्याना तहसील के आठ गांव में गंगा एक्सप्रेसवे के लिए भूमि अधिकरण का कार्य पूरा कर लिया गया है।

- डा. प्रशांत कुमार, एडीएम प्रशासन

Edited By: Jagran