संवाद सहयोगी, खुर्जा: बीते दिनों हुई कविता की हत्या के मामले में नया मोड़ आ गया है। पुलिस जांच में पूर्व में नामजद किए गए तीनों आरोपित निर्दोष पाए गए और पति ही पत्नी की हत्या का दोषी निकला। पुलिस के अनुसार अपने पिता को खाना देने को लेकर हुए विवाद के बाद पति ने पत्नी की हत्या की थी।

खुर्जा सीओ गोपाल ¨सह ने बताया कि 25 दिसंबर 2018 को क्षेत्र के गांव सौंदा हबीबपुर निवासी कविता पत्नी मोहित कुमार की गला घोंटकर हत्या कर दी गई थी। इसमें मृतका के पति ने गांव के तीन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था।

सीओ ने बताया कि खुर्जा कोतवाली प्रभारी अर¨वद कुमार ने मामले में गहनता से जांच कराई। इसमें तीनों आरोपितों की नामजदगी गलत पाई गई और महिला की हत्या में उसके पति मोहित का नाम ही प्रकाश में आया।

सोमवार को मुखबिर की सूचना पर कोतवाली प्रभारी ने पुलिस टीम के साथ आरोपित पति को खुर्जा-जेवर मार्ग से दबोच लिया। सीओ ने बताया कि पूछताछ के दौरान पता चला कि 25 दिसंबर की रात को कविता ने मोहित के पिता को खाना दिया था। खाना देने को लेकर पति-पत्नी के बीच विवाद हो गया था। इसी बात को लेकर रात्रि में मोहित ने पत्नी कविता की धोती से गला दबाकर हत्या कर दी।

पुलिस ने आरोपित के खिलाफ मुकदमा दर्ज करते हुए उसका चालान कर दिया। गिरफ्तार करने वाली टीम में कोतवाली प्रभारी अर¨वद कुमार, विनीत कुमार, प्रवेश कुमार, सौरभ कुमार आदि पुलिसकर्मी रहे।

Posted By: Jagran