बुलंदशहर, जेएनएन : कृषि आधारित अर्थव्यवस्था वाले जिला बुलंदशहर को इस बार आम बजट से काफी उम्मीद थी। जनपदवासियों को उम्मीद थी कि एनसीआर में शामिल होने के कारण इस बार बजट में जिले के विकास के लिए कुछ खास होगा। यहां के किसानों और पॉटरी उद्योग के लिए भी अलग से घोषणा होगी, लेकिन बजट में ऐसा कुछ नहीं हुआ। हालांकि किसानों और ग्रामीण महिलाओं के लिए की गई घोषणाओं ने जरूर जनपद वासियों की उम्मीदों को जिदा रखा है।

गेहूं, गन्ना और आलू की खेती में नए रिकार्ड कायम करने वाले बुलंदशहर के नाम के साथ पॉटरी उद्योग की विश्व स्तरीय पहचान भी है। युवा शक्ति से लबरेज इस जनपद को इस बार आम और रेल बजट से काफी उम्मीद थी, लेकिन जिले के लिए कुछ विशेष घोषणा न होने से फिलहाल मायूसी ही है। दिल्ली के निकट होने के कारण जनपद अभी भी अपने पड़ोसी जिलों काफी पीछे है। यहां स्वास्थ्य सुविधाएं भी बदहाल हैं। अब भी गंभीर हालत में लोगों को मरीज नोएडा, गाजियाबाद और मेरठ ले जाना पड़ता है। यहां मेडिकल कालेज की स्थापना की उम्मीद भी पूरी नहीं की गई। काफी समय से बुलंदशहर को हवाई सेवा से सीधे दिल्ली से जोड़ने के लिए मांग हर मंच पर उठती रही है। इस बार लोगों को अधिक उम्मीद थी कि बजट में उनकी दशकों पुरानी मांग को पूरा कर दिया जाएगा, लेकिन ऐसा कुछ होता नजर नहीं आया।

----------

धरातल पर उतरे

घोषणा तो बने बात

केंद्र सरकार द्वारा प्रस्तुत आम बजट में किसानों के लिए कई बड़ी घोषणाएं की गई है। ऐसे में कृषि आधारित जनपद होने के कारण यहां के किसानों के लिए कुछ बेहतर होने की भी उम्मीद जागी है। दलहन के मामले में आत्मनिर्भर बनने, दूध उत्पादन को बढ़ाने और सबसे बड़ी घोषणा ऊर्जा के क्षेत्र में किसानों की भागीदारी बढ़ाने की भी घोषणा की गई है। ऐसे में जिले के किसानों को उम्मीद है कि भविष्य में कुछ बेहतर होगा, लेकिन साथ ही घोषणाओं के धरातल पर उतरने को लेकर भी संशय बना हुआ है।

----------

अर्थव्यवस्था की भागीदार बनेंगी ग्रामीण महिलाएं

जिले में एक हजार से अधिक स्वयं सहायता समूह हैं और स्वरोजगार की दिशा में भी खासतौर पर ग्रामीण क्षेत्र की महिलाएं कदम बढ़ा चुकी हैं। आम बजट में महिलाओं को आगे बढ़ने के लिए जन-धन बैंक खातों में पांच हजार रुपये का ओवरड्राफ्ट की छूट और मुद्रा लोन की सुविधा भी काफी कुछ बदलने में सहायक होगी। इस बीच लगातार मंहगी होती रसोई और बच्चों की पढ़ाई को लेकर महिलाएं अधिक चितित दिखीं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप