बुलंदशहर, जेएनएन। गलघोंटू रोग से पीड़ित कक्षा पांच की छात्रा की मौत हो गई। स्वास्थ्य विभाग ने आसपास के सौ घरों में रहने वाले लोगों का टीकाकरण कराया है। इसके बावजूद मोहल्ले वाले संक्रमण की आशंका में सहमे हैं। इस तरह की बीमारी से मौत का पहला मामला सामने आने पर चिकित्सक भी हैरान हैं।

कस्बे के मोहल्ला नेहरूगंज निवासी चंद्रकेश शर्मा की 10 वर्षीय बेटी निशा निजी स्कूल में कक्षा पांच की छात्रा थी। उसके हाथ की उंगली में 10 अक्टूबर को सूजन आ गई थी। उपचार कराया लेकिन सूजन बढ़कर गले तक पहुंच गई। हालत गंभीर होने पर परिजन बच्ची को इलाज के लिए बुलंदशहर ले गए। यहां से रेफर होने पर दिल्ली के महर्षि वाल्मीकि चिकित्सालय ले गए। तीन दिन उपचार के बाद एलएनजेपी अस्पताल में रेफर कर दिया। वहां भी चिकित्सकों ने एक दिन उपचार करके वापस घर भेज दिया। 17 अक्टूबर की रात निशा ने घर पर दम तोड़ दिया।

सीएचसी प्रभारी डा. रमाकांत ने बताया कि दिल्ली अस्पताल की रिपोर्ट में बच्ची को गलघोंटू रोग से पीड़ित बताया गया है। बच्ची के पड़ोस में रहने वाले करीब सौ घरों में लोगों को टीकाकरण कराया गया है। इन्होंने कहा.

मामला संज्ञान में नहीं है। हो सकता है बच्ची कुछ दिन पहले कही बाहर गई हो और वहां से किसी बीमारी का वायरस लग गया हो। हालांकि टीकाकरण 15 से 25 अक्टूबर तक पूरे जिले में चलाया जा रहा है। रिपोर्ट देखने के बाद ही कुछ बताया जा सकता है।

- डा. अशोक तालियान, एसीएमओ

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप