बुलंदशहर, जेएनएन। राजधानी दिल्ली के नजदीक होने और मिश्रित आबादी होने के कारण बुलंदशहर की गिनती अतिसंवेदशील जनपदों में होती है। इसके मद्देनजर पुलिस-प्रशासन ने छह दिसंबर के दिन शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए जनपदभर में विशेष इंतजाम किए हैं। शुक्रवार को मस्जिद विध्वंस को लेकर जिले में सब कुछ बेहतर है, लेकिन सभी अफसर सतर्क रहे और जिले में लगातार गश्त करते रहें। खुद जिलाधिकारी रविंद्र कुमार और एसपी संतोष कुमार सिंह फोर्स के साथ खुद जिले भर में गस्त करते हुए नजर आए। खुर्जा और सिकंदराबाद में एसएसपी मौके पर रहे।

जिले में सतर्क रहें अफसर

छह दिसंबर को लेकर एसएसपी ने पूरे जिले में संवेदनशील और अतिसंवेदनशील क्षेत्रों को पहले ही चिन्हित कर लिया था। इन क्षेत्रों में पीएससी के साथ पुलिस फोर्स की ड्यूटी लगाई गई है। इन स्थानों पर डीएम ने भी एक-एक मजिस्ट्रेट को तैनात किया हुआ है। शुक्रवार सुबह से ही पुलिस अफसर सतर्क हैं। वहीं मंदिर और मस्जिद पर भी एसएसपी ने अधिकारियों को नजर बनाए रखने के लिए बोला है। सभी थाना अध्यक्ष को निर्देश दिए हैं कि जिस समय जुम्मे की नमाज हो तो सर्तक रहें कि कहीं कोई विवादित टिप्पणी या फिर कोई भड़काऊ भाषण तो नहीं दे रहा है।

पहले की करा स्‍कूलों की छुट्टी

शुक्रवार को जिलाधिकारी ने घटना की आशंका के मद्देनजर पहले ही स्कूलों की छुट्टियां कर दी थी। इसके अलावा आबादी वाले क्षेत्रों समेत अन्य सभी संवेदनशील स्थानों पर पुलिस बल तैनात करते हुए थाना प्रभारी लगातार गश्त करते रहे। एसएसपी ने असामाजिक तत्वों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। सभी क्षेत्रों में विजय दिवस और काला दिवस मनाने पर रोक रही। गौरतलब है कि रामजन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद छह दिसंबर को लेकर खुफिया रिपोर्टों में भी असामाजिक तत्वों द्वारा माहौल बिगाड़ने की आशंका जताई गई थी।  

Posted By: Taruna Tayal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस