बुलंदशहर, जेएनएन। गांव चिमावली में विद्युत कर्मियों की लापरवाही के चलते विद्युत केबिल बीच रास्ते में लटक रही है। स्थानीय लोगों ने इससे हादसे की आशंका जताई है।

चिमावली निवासी शीशपाल फौजी व चौकीदार नरायन सिंह ने बताया कि करीब एक माह पहले आई तेज आंधी में पेड़ टूट कर विद्युत लाइन पर गिर गया था। ग्रामीणों की सूचना पर पहुंचे विधुत कर्मियों ने टूटे पेड़ को लाइन से हटवा कर विधुत सप्लाई सुचारू करा दी थी। लेकिन विधुत केबिल को खंभे पर नहीं खींचा गया था। केबिल जमीन से करीब दो फुट ऊंचाई पर बीच रास्ते में लटक रही है। इससे बड़ा हादसा होने की आशंका बनी हुई। जिससे मकान स्वामी और राहगीरों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। मकान स्वामी शीशपाल फौजी विद्युत निगम को लिखित व मौखिक रूप से शिकायत कर चुके हैं। लेकिन शिकायत के बावजूद इस ओर कोई ध्यान नहीं है। उधर, डिबाई एसडीओ प्रथम रविन्द्र सिंह का कहना है कि मामला उनके संज्ञान में नहीं है। मामले की जांच कराकर शीघ्र समाधान कराया जाएगा।

युवक की मौत

खुर्जा: जंक्शन क्षेत्र के एक गांव निवासी 23 वर्षीय युवक ने बीते शुक्रवार को किसी बात से परेशान होकर जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया था। स्वजनों ने उसे हाईवे स्थित निजी अस्पताल में भर्ती कराया था। जहां उपचार के दौरान रविवार सुबह युवक की मौत हो गई। जानकारी पर पुलिस पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। कोतवाली प्रभारी नीरज कुमार सिंह ने बताया कि कोई तहरीर नहीं मिली है।

तहरीर दी

अहमदगढ़ : क्षेत्र के गांव अकरवास कनेनी निवासी चंद्रवीर पुत्र बीरबल ने थाने में नामजद तहरीर देते हुए कहा है कि जंगल में पिछले वर्ष राजस्व विभाग की टीम पहुंची थी। वहां टीम ने दोनों पक्षों के सामने जमीन की पैमाइश कर चकरोड निकलवाया था। गत माह 6 अक्टूबर शाम 7 बजे गांव के ही आधा दर्जन से अधिक किसानों ने ट्रैक्टर द्वारा चकरोड को खुर्द-बुर्द कर अपने खेत में शामिल कर लिया है। थाना प्रभारी रतनेश कुमार का कहना है कि पीड़ित की तहरीर पर मामले की जांच शुरू कर दी है।

Edited By: Jagran