बुलंदशहर, जेएनएन। अनूपशहर नगर के पक्के घाट से दूर हो गई गंगा की धारा को घाट पर लाने के लिए श्रद्धालुओं ने मां गंगा की पूजा अर्चना करके जेसीबी मशीन की मदद से नहर के समान खुदाई कराकर घाट पर लाने का प्रयास प्रारंभ कर दिया है।

अनूपशहर नगर में गंगा किनारे बने सैकड़ों साल पुराने घाट से मुख्य धारा विगत कई वर्ष से दूर हट जाने से श्रद्धालुओं को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। कार्तिक मेला के दौरान प्रशासन भी सोच में रहता है। पिछले चार दिन से कुछ श्रद्धालुओं ने मां गंगा की पूजा-अर्चना करके जेसीबी मशीन से गंगा तथा घाट के मध्य निकल आए बालू के विशाल टापू में खुदाई कराकर नहर नुमा स्थान बनाकर गंगा की मुख्य धारा को घाट के किनारे लाने का प्रयास प्रारम्भ किया है। यह भगीरथ प्रयास बन सकता है। आशा है, कि शुक्रवार को गंगा की मुख्य धारा नगर के पक्के घाट पर आ सकती है। जिससे श्रद्धालुओं को स्नान करने के लिए बालू के टापू पर नहीं जाना होगा। श्रद्धालुओं के प्रयास को देखकर लोगों को भागीरथ के प्रयास की याद आने लगी है। पूजा-अर्चना के साथ की मां दुर्गाे मूर्ति की स्थापना

स्याना। मां भगवती के नौवें नवरात्र पर भक्तों ने पूजा-अर्चना के साथ मां दुर्गा मूर्ति की स्थापना की। गुरुवार को नगर के मोहल्ला पुड़ावाला स्थित मंदिर परिसर मां दुर्गा की मूर्ति स्थापना से पूर्व भक्तों द्वारा ढोल-नगाड़ों के साथ नगर के प्रमुख मार्ग पर शोभा यात्रा निकाली गयी। जिसके बाद पंडित मंटू शास्त्री द्वारा विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना कर मंदिर में मूर्ति स्थापित कराई गयी। मुख्यअतिथि नगर के वरिष्ठ समाजसेवी ऋषिपाल सिंह ने यज्ञ में आहुति दी। जिसके बाद मंदिर परिसर में भंडारे व प्रसाद का वितरण किया गया। वहीं दिनभर प्रसाद ग्रहण करने के लिए मां के भक्तों का तांता लगा रहा। इस दौरान बॉबी जाटव, चंद्रपाल जाटव, आशीष जाटव, राजू, जगवीर सिंह, सविता देवी, मंजू देवी, गीता देवी व दिनेश कुमार आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran