बुलंदशहर, जेएनएन। चिंगरावठी बवाल के मुख्य आरोपितों में एक भाजयुमो के पूर्व नगराध्यक्ष शिखर अग्रवाल को एसआइटी ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस टीम और एसआइटी ने उसे गुरुवार तड़के हापुड़ जिले के थाना हाफिजपुर क्षेत्र के हापुड़ बाईपास से गिरफ्तार किया है। अब टीम आरोपित से पूछताछ में जुटी है।
वायरल वीडियो में दिखा था
तीन दिसंबर को स्याना कोतवाली की चिंगरावठी पुलिस चौकी पर गोकशी को लेकर हुए बवाल के नामजद आरोपित शिखर अग्रवाल को लेकर एसआइटी सबसे पहले स्याना कोतवाली पहुंची। यहां टीम ने कुछ देर तक पूछताछ की। इसके बाद टीम बुलंदशहर पुलिस लाइन पहुंच गई। यहां एसआइटी और पुलिस अधिकारी इससे पूछताछ करेंगे। बवाल से पहले लगे जाम और हंगामे की वायरल वीडियो में शिखर दिखाई दे रहा था।
भीड़ को भड़काने का आरोप
शिखर अग्रवाल पर भीड़ को बवाल के लिए भड़काने का आरोप है। बवाल के बाद से ही वह फरार चल रहा था। बवाल के बाद एक समाचार चैनल को इंटरव्यू देने के बाद शिखर अग्रवाल चर्चा में आया था। इंटरव्यू में बवाल के लिए शिखर ने पुलिस-प्रशासन को जिम्मेदार बताते हुए खुद को बेकसूर बताया था। बवाल से कुछ माह पहले ही शिखर भाजयुमो का स्याना नगराध्यक्ष बना था और बवाल में नाजमदगी के बाद संगठन ने उसको पद से हटा दिया गया।

योगेश राज भी हो चुका गिरफ्तार
पुलिस ने बीते दिनों हिंसा के मुख्य आरोपी योगेश राज को गिरफ्तार किया था। योगेश राज को स्याना हिंसा का मुख्य आरोपी बनाया गया था। योगेश राज बजरंग दल का जिला संयोजक है और हिंसा के बाद से फरार था।योगेश राज की गिरफ्तारी बुलंदशहर के खुर्जा से हुई थी। उस पर हिंसा भड़काने का आरोप है। पुलिस ने उसे ही मुख्य आरोपी बनाया है। योगेश राज ने ही गो हत्या मामले में झूठी एफआईआर दर्ज करवाई थी। बीते माह बुलंदशहर में हुई हिंसा के मामले में अब तक 37 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

Posted By: Ashu Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप