बुलंदशहर, जेएनएन। गुलावठी में लंपी बीमारी के बढ़ते प्रकोप से नगर में बेसहारा गोवंशी घूम रहे है। इनमें एक बैल में लंपी वायरस जैसे लक्षण दिख रहे हैं। लोगों का आरोप है कि स्थानीय प्रशासन व पशु चिकित्सा विभाग इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है। 

मेरठ-बुलंदशहर, सैदपुर व सिकंदराबाद मार्ग पर हर समय बेसहारा गोवंशी घूमते दिख रहे हैं, जबकि नपा प्रशासन का दावा है कि बेसहारा गोवंशियों को गोशाला में रखा गया है। इसके बावजूद सड़क पर सांड, बैल व गाय घूम रहे हैं, जिससे जहां बीमारी फैलने की आशंका बनी हुई है। वहीं हादसे का भी डर बना हुआ है। 

इंटरेनट पर वायरल हो रहा फोटो

लोगों ने स्थानीय प्रशासन पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। सैदपुर रोड पर लंपी वायरस से ग्रस्त एक बैल का फोटो भी इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित हो रहा है। लंपी बीमारी के कारण इन दिनों सड़क पर बेसहारा गोवंशी के घूमने से लोगों को उनकी चिंता सता रही है। 

पशु चिकित्साधिकारी डा.गौतम तिवारी का कहना है कि अधिकांश गोवंशों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। बारिश से मौसम में आए बदलाव से पशुओं की इम्युनिटी में गिरावट आ जाती है, इसलिए वैक्सीन नहीं लगाई जा रही है। सड़क पर घूम रहे गोवंशी को पकड़वाने के लिए नपा प्रशासन को कहा गया है।

अंडरपास में पानी भरने से राहगीर परेशान 

बुलंदशहर, जेएनएन। खुर्जा के सुल्तानपुर बुढ़ेना अंडरपास में बरसात का पानी भर जाने से राहगीर परेशान हैं। साथ ही वह काफी घूमकर आने-जाने को मजबूर हैं। राहगीरों का कहना है कि शिकायतों के बाद भी पानी निकासी की कोई उचित व्यवस्था नहीं की गई है।

क्षेत्र के सुल्तानपुर बुढ़ैना गांव के निकट रेलवे का अंडरपास बना हुआ है। बरसात के चलते अंडरपास तालाब में तब्दील है। जिस कारण दो पहिया वाहन और कार का निकलना मुश्किल हो गया है। साथ ही पैदल चलने वाले लोगों को भी परेशानी हो रही है। 

शिकायत के बाद भी नहीं निकला समाधान

राहगीरों ने बताया कि बरसात के बाद अंडरपास में पानी भर जाता है, जिसको लेकर पूर्व में भी शिकायतें की गईं, लेकिन कोई उचित समाधान नहीं निकाला गया। यही कारण है कि बरसात के बाद अंडरपास में पानी भर जाता है और राहगीरों को आने-जाने में परेशानियों का सामना करना पड़ता है। उधर, एसडीएम लवी त्रिपाठी ने बताया कि अंडरपास में पानी भरने को लेकर रेलवे के अधिकारियों से वार्ता की जाएगी।

Edited By: Deepak Banshal

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट