बुलंदशहर, जेएनएन। विधानसभा का मानसून सत्र गुरुवार को महिलाओं के नाम रहा। खुर्जा से भाजपा विधायक मीनाक्षी सिंह ने सत्र में एनआरईसी महाविद्यालय को विश्वविद्यालय बनाए जाने का अहम मुद्दा उठाया। इससे छात्रों को उच्च शिक्षा ग्रहण करने के लिए बाहर न जाना पड़े। साथ ही क्षेत्र के कई संपर्क मार्गों के निर्माण का प्रस्ताव भी रखा।

भाजपा की खुर्जा विधायक मीनाक्षी सिंह ने बताया कि एनआरईसी महाविद्यालय में पांच संकाय हैं। विश्वविद्यालय बनने की सभी शर्तें यह महाविद्यालय पूरी करता है। उन्होंने बताया कि काफी समय से छात्रों समेत क्षेत्र के लोग एनआरईसी महाविद्यालय को विश्वविद्यालय बनाने की मांग कर रहे हैं। इसको लेकर धरना-प्रदर्शन भी हो चुका है। उनसे भी कई बार छात्र व क्षेत्र के लोग इसकी मांग कर चुके हैं। 

लोगों की मांग पर उठाया मुद्दा

विधायक ने बताया कि वर्तमान में यहां के छात्रों को उच्च शिक्षा ग्रहण करने के लिए बाहर जाने को मजबूर होना पड़ता है। अगर एनआरईसी महाविद्यालय को विश्वविद्यालय बना दिया जाता है तो खुर्जा ही नहीं, बल्कि पूरे जिले के अलावा आसपास के जिलों के छात्रों को भी इसका फायदा मिलेगा। छात्रों को यहीं पर उच्च शिक्षा मिल सकेगी।

इसको ध्यान में रखकर ही उन्होंने छात्रों और क्षेत्र के लोगों की मांग पर विधानसभा में यह महत्वपूर्ण मुद्दा उठाया है। इसके अलावा विधायक ने क्षेत्र की पांच सड़कों को भी बनवाने का प्रस्ताव रखा, जिससे क्षेत्र के लोगों को आवागमन में परेशानी न होने पाए।

महिला सशक्तीकरण पर भी रखे विचार

विधानसभा में विधायक मीनाक्षी सिंह ने महिला सशक्तिकरण पर भी विचार रखे। उन्होंने कहा कि खेल का मैदान हो या फिर अंतरिक्ष, चाहे सशस्त्र बलों की बात हो, किसी भी क्षेत्र में महिलाएं पीछे नहीं हैं। बल्कि हर क्षेत्र में बढ़चढ़कर सफलतापूर्वक भूमिका निभा रही हैं। देश और समाज की प्रगति महिलाओं के सशक्तीकरण के बिना अधूरी है। केंद्र और प्रदेश सरकार ने भी महिला सशक्तिकरण के लिए बहुत कल्याणकारी योजनाएं लागू की हैं।

छात्र संघर्ष समिति का भी हो चुका है गठन

एनआरईसी कालेज को विश्वविद्यालय बनाने के लिए विश्वविद्यालय संघर्ष समिति का भी गठन छात्रों ने किया है. जिसके बैनर तले उन्होंने काफी दिनों तक धरना-प्रदर्शन किया था। समिति के अध्यक्ष अजय ठाकुर ने बताया कि विधायक के एनआरईसी को विश्वविद्यालय बनाने की मांग उठाना छात्रों के हित में है।

एनआरईसी महाविद्यालय पर एक नजर

  • 1901 में हुई थी एनआरईसी कालेज की स्थापना
  •  कला, विज्ञान, वाणिज्य, विधि और शिक्षा समेत हैं पांच संकाय
  • 21 फरवरी, 2016 को तत्कालीन राज्यपाल राम नाईक भी आए थे।
  • तीन छात्रावास हैं, जिसमें हिविट, गोविंद और सीएल हैं मौजूद
  •  करीब 69 एकड़ का है विशाल परिसर
  •  यूजीसी दिल्ली से कालेज को प्राप्त है 
  • ए-ग्रेड प्राचार्य और प्रोफेसर के आवास की है व्यवस्था।

Edited By: Shivam Yadav