बुलंदशहर, जेएनएन। सिकंदराबाद मार्ग पर तेलियाघाट के निकट गंदे नाले का पुल खतरे की डगर बना रहा था। ऐसे में राहगीरों की समस्याओं को दैनिक जागरण ने प्रमुखता से प्रकाशित किया, तो विभागीय अधिकारी नींद से जाग उठे। उनके द्वारा पुल की रेलिग बनाने का कार्य शुरू करवा दिया गया है। इसके अलावा मरम्मत के लिए शासन को इस्टीमेट बनाकर भेजा गया है।

पुराना जीटी रोड कहे जाने वाले सिकंदराबाद-खुर्जा मार्ग से प्रतिदिन हजारों की संख्या में वाहनों का आवागमन होता है। इसी मार्ग पर तेलियाघाट से होकर गंदा नाला निकल रहा है। इस नाले पर अंग्रेजों ने पुल का निर्माण कराया था। देखरेख के अभाव में वर्तमान में यह पुल जर्जर हो गया है। पुल में नीचे की तरफ सरिया भी दिखाई देने लगी हैं। इतना ही नहीं पुल के एक तरफ की रेलिग भी गायब हो गई है। रेलिग नहीं होने के कारण हादसे का खतरा बना रहता है। स्थानीय लोगों की शिकायतों के बाद भी सुनवाई नहीं हुई। बीते छह फरवरी को दैनिक जागरण ने इस समस्या को प्रमुखता से उठाया था। इसके बाद पीडब्ल्यूडी के अधिकारी नींद से जाग उठे। उनके द्वारा पुल की मरम्मत का इस्टीमेट तैयार करते हुए उसे शासन को भेज दिया गया है। जहां से स्वीकृति मिलने के बाद पुल की मरम्मत का कार्य होगा।

रेलिग बनाने का कार्य शुरू

पीडब्ल्यूडी द्वारा पुल पर रेलिग बनाने का कार्य मंगलवार से शुरू करवा दिया गया है। ऐसे में आने-जाने वाले राहगीरों को अब अगर वह सड़क किनारे भी चले, तो नाले में गिरने का खतरा नहीं सताएगा।

दैनिक जागरण को बोला थैंक्स

गंदे नाले के पुल पर रेलिग नहीं होने के कारण हादसे का खतरा बना रहता था, शिकायतों के बाद भी कोई सुनवाई नहीं हो रही थी। दैनिक जागरण ने खबर को प्रमुखता से प्रकाशित कर राहगीरों की समस्या का समाधान कराया है।

--शैलेंद्र सिंह, निवासी गांव सौंदा।

राहगीरों की समस्या को उठाने के लिए दैनिक जागरण का धन्यवाद। क्योंकि वर्तमान में पुल की रेलिग बनने लगी है। ऐसे में लोगों को अब यहां से निकलते समय नाले में गिरने का खतरा नहीं रहेगा।

--कुलदीप सिंह, निवासी तेलियाघाट।

दैनिक जागरण की खबर के बाद ही विभागीय अधिकारियों द्वारा पुल की मरम्मत के लिए इस्टीमेंट तैयार करके शासन को भेजा गया है। जहां से जल्द स्वीकृति मिलने के बाद मरम्मत का कार्य शुरू होगा।

--कुशलपाल सिंह, निवासी धराऊ।

गंदे नाले के पुल पर नीचे की तरफ सरिया निकलती हुई देखकर यहां से गुजरते में डर लगता था, लेकिन पुल की मरम्मत होने के बाद अब यह कई दशक ठीक हालत में रहेगा।

--संजीव उर्फ संजू सिंह, निवासी सिद्धेश्वर मंदिर मार्ग खुर्जा।

......

बोले अधिकारी..

राहगीरों की सुरक्षा को देखते हुए पुल की टूटी रेलिग को बनवाया जा रहा है। इसके अलावा पुल की मरम्मत के लिए शासन को इस्टीमेट बनाकर भिजवा दिया गया है। जहां से जल्द स्वीकृति मिलने की उम्मीद है।

--राधेश्याम, एक्सईएन, पीडब्ल्यूडी निर्माण खंड, द्वितीय बुलंदशहर।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस