जेएनएन, बिजनौर। ऊमरी क्षेत्र के गांव मोरना स्थित महाराज मुकुट सिंह शेखावत संस्थान में गुरुवार को शेखावत-कच्छवाहा कुल के प्रवर्तक महाराव शेखाजी अमरसर की 589वीं जयंती मनाई गई। क्षत्रिय समाज ने परिसर में बने मधी युद्ध विजय स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित की।

मोरना के महाराज मुकुट सिंह शेखावत संस्थान में गुरुवार को हुए कार्यक्रम में महाराव शेखाजी के जीवन परिचय पर प्रकाश डाला गया। संस्थान के पदाधिकारियों ने उनके जीवन इतिहास पत्रक का वाचन किया। बताया कि महाराव शेखाजी आमेर के राजा उदयकरण के पौत्र राव मोकल के पुत्र थे। इनका जन्म विजय दशमी के दिन संवत 1490 को हुआ था। 12 वर्ष की अल्पायु में राज गद्दी पर आसीन हुए। अपनी राजनीतिक सूझबूझ और युद्ध कौशल से 12 गांव की छोटी जागीर को 360 गांवों के विशाल साम्राज्य में बदला, जो अब शेखावाटी कहा जाता है।

महाराव शेखाजी के नौवीं पीढ़ी के वंशज महाराज मुकुट सिंह शेखावत के नेतृत्व में 12 राजाओं ने राजस्थान में सन 1542 में फतेहुल्ला खां के खिलाफ मधी युद्ध में भाग लिया था। आज भी बिजनौर, ठाकुरद्वारा और अमरोहा में उनके वंशज रहते हैं। मोरना में भी मधी युद्ध स्मारक स्थल बनाया गया है। पुष्पांजलि देने वालों में डा. चेतन स्वरूप, वीरसिंह बैस, योगेश वत्स, प्रशांत, प्रियांशु, राजपाल सिंह, कृष्ण स्वरूप, ललित शेखावत, जयंत, केशव सिंह, निगम सिंह, वैभव सिंह मौजूद रहे। बाद में प्रसाद वितरण किया गया। अब 31 अक्टूबर को होगी प्रतिस्पर्धा

किरतपुर में गोप्स डांस एकेडमी के बैनर तले टैलेंट का जुनून प्रतिस्पर्धा सीजन-1 प्रतिस्पर्धा अब 20 अक्टूबर के स्थान पर 31 अक्टूबर को एसएम एकेडमी में होगी। डांस एकेडमी के संचालक गोविदा ने बताया अपरिहार्य कारणों से प्रतियोगिता आयोजन की तिथि में बदलाव किया गया है। नगर में पहली बार होने वाले टैलेंट का जुनून प्रतिस्पर्धा में नृत्य, गायन एवं माडलिग में बच्चे प्रतिभा दिखाएंगे।

Edited By: Jagran