जेएनएन, बिजनौर। चांदपुर क्षेत्र के गांव रूपपुर में धान की बुवाई के लिए पानी से भरे खेत में जुताई करते समय अचानक ट्रैक्टर पलट गया। इससे चालक ट्रैक्टर के नीचे दब गया और उसकी मौत हो गई। ग्रामीणों ने काफी मशक्कत के बाद शव को ट्रैक्टर के नीचे निकाला।

गांव निवासी 55 वर्षीय सुरेंद्र शर्मा के गांव से बाहर खेत हैं। बुधवार को दोपहर के समय वह पानी से भरे खेत की ट्रैक्टर-ट्रिपलर से जुताई कर रहे थे। तभी अचानक पानी में ट्रैक्टर फंस गया और देखते ही देखते पलट गया। सुरेंद्र ट्रैक्टर के नीचे दब गए। आसपास खेतों में काम कर रहे लोगों ने शोर मचाया और ट्रैक्टर को सीधा कर उन्हें निकालने का प्रयास किया, लेकिन वह कामयाब नहीं हो सके। सूचना पर परिजन व अन्य ग्रामीण वहां पहुंचे और काफी देर बाद ट्रैक्टर को सीधा किया और उन्हें बाहर निकाला, लेकिन तब तक सुरेंद्र शर्मा की मौत हो चुकी थी। ग्रामीणों के अनुसार सुरेंद्र शर्मा की पत्नी काफी समय से बीमार चल रही थी और मेरठ के अस्पताल में भर्ती थी। वह मंगलवार को ही डिस्चार्ज होकर घर लौटी थी। गंगा में डूबे युवक का शव पांच दिन बाद मिला

बेगावाला क्षेत्र में गंगा बैराज पर दोस्तों के साथ नहाने गया एक युवक डूब गया था। गोताखोरों के काफी तलाशने के बाद भी युवक का कुछ पता नहीं चला। पांच दिन बाद बैराज घाट से करीब ढाई किलोमीटर दूर गंगा किनारे पर युवक का शव पड़ा मिला।

थाना कोतवाली शहर के ग्राम खेड़की निवासी 22 वर्षीय रिजवान 24 जुलाई को दोस्तों के साथ गंगा बैराज पर नहाने गया था। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार रिजवान ने बैराज पुल पर लगी रेलिग से गंगा में छलांग लगाई थी। उसके बाद युवक पानी से बाहर नहीं आया। सूचना पर पुलिस प्रशासन ने युवक की तलाश में गोताखोर भी लगाए, लेकिन उसका कुछ पता नहीं लगा। परिजन तभी से युवक की तलाश में लगे थे। बुधवार दोपहर बैराज से ढाई किलोमीटर दूर एक शव मिला। सूचना पर परिजन घटनास्थल पर पहुंचकर शव की शिनाख्त रिजवान के रूप में की।

Edited By: Jagran