जेएनएन, बिजनौर। गन्ना विकास समिति बिजनौर के प्रांगण में शुक्रवार को सामान्य बैठक हुई, जिसमें गन्ना समिति सचिव संजीव मोहन भसीन ने बैठक में सर्वप्रथम आय-व्यय का ब्योरा रखा। साथ ही किसानों के लिए सरकार व समिति की ओर से चलाई जा रही लाभकारी योजनाओं के बारे में विस्तार से बताया है। समिति की ओर से किसानों की आय बढ़ाने व खेती में सहायक यंत्रों आदि के बारे में प्रकाश डाला।

बैठक में किसानों ने बकाया गन्ना मूल्य का मुद्दा जोर-शोर से उठाया। बिलाई मिल क्षेत्र के किसानों ने बकाया भुगतान का मुद्दा जोरशोर से उठाया। समिति सचिव संजीव मोहन ने किसानों को जल्द से जल्द बकाया गन्ना मूल्य भुगतान कराने का आश्वासन देकर नाराज किसानों को शांत किया। बैठक में पहुंचे बिजनौर एवं बिलाई चीनी मिलों के अधिकारियों ने बकाया भुगतान जल्द कराने का आश्वासन दिया। किसानों ने गन्ना विभाग द्वारा ऑनलाइन घोषणा पत्र भरवाने में असमर्थता जताई। कहा कि घोषणा पत्र ऑनलाइन भरने में किसानों को भारी परेशानी उठानी पड़ रही है। गन्ना समिति सचिव संजीव मोहन भसीन ने किसानों को कहा कि उनकी समस्या से सीनियर अधिकारियों को अवगत करा दिया जाएगा। बैठक की अध्यक्षता राजेंद्र सिंह की और संचालन एडवोकेट जयवीर सिंह ने किया। बैठक में चीनी मिलों के अधिकारी व अनेक किसान उपस्थित रहे। गन्ने का दाम 450 रुपये प्रति कुंतल दे सरकार

नजीबाबाद में राष्ट्रीय लोकदल के कार्यकर्ताओं ने गन्ना भुगतान सहित किसानों की विभिन्न समस्याओं को उठाया। कार्यकर्ताओं ने गन्ने के दाम 450 रुपये प्रति कुंतल किए जाने की मांग उठाई। जिला परिषद के डाक बंगले में नौबहार सिंह की अध्यक्षता में राष्ट्रीय लोकदल के कार्यकर्ताओं की बैठक हुई। नौबहार सिंह ने कहा कि कोरोना काल में किसान आर्थिक तंगी झेल रहा है। चीनी मिल किसानों का पैसा दबाए बैठी है। उन्होंने कहा किसान शांत बैठने वाला नहीं है। आगामी चुनाव में किसान करारा जवाब देंगे। कार्यकर्ताओं ने आगामी गन्ना सत्र में गन्ने का दाम 450 रुपये प्रति कुंतल किए जाने की मांग की। कार्यकताओं ने आगामी 26 सितंबर को ब्लाक स्तरीय बैठक आयोजित करने का निर्णय लिया। बैठक में विजयपाल सिंह, परम सिंह, राजवीर सिंह, इकबाल सिंह, चरण सिंह त्यागी, लटूर सिंह, हरपाल सिंह, वरुण चौधरी, पुखराज सिंह, विनीत चौधरी, नितिन मलिक, अमित देशवाल, रमा शर्मा, सुमन वर्मा, रजत चौधरी, सत्यम सहरावत, सोमपाल सिंह, मुनेश्वर सिंह, धर्मेंद्र सिंह, राजकमल सिंह आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Edited By: Jagran