बिजनौर, जेएनएन। गुरुवार तड़के मौसम में फिर बदलाव हुआ। सुबह के समय जिले में बारिश हुई। जिले के कुछ क्षेत्र में हल्की ओलावृष्टि हुई। सुबह बारिश के कारण स्कूल में जाने वाले बच्चों को परेशानी उठानी पड़ी। बारिश व शीतलहर से ठंड का असर बढ़ गया। इस बारिश होने के बाद लेट बुआई पर तो ग्रहण लग गया। दोपहर तक जिले के मौसम में बारिश के बाद धुंध बनी रही। दोपहर बाद फिर आसमान में काले काले बादल छा गए।

हल्की बारिश होने से सड़कों पर जलभराव एवं सड़कों पर कीचड़ होने से राहगीरों को परेशानी का सामना करना पड़ा। शाम को फिर से जिले में बारिश हुई। बारिश होने से ठंड बढ़ी, वहीं बाजारों की रौनक कम हो गई। बाजार की सड़कों पर सन्नाटा दिखाई दिया। ठंड अधिक होने के चलते लोगों ने घरों में रहना सुरक्षित समझा। बारिश के साथ-साथ शीतलहर चलने दिनभर मौसम बहुत ठंडा रहा। जिले का अधिकतम तापमान 16.4 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 7 डिग्री सेल्सियस मापा गया। जिले में 15 एमएम बारिश रिकार्ड की गई।

चांदपुर: मौसम विभाग की भविष्यवाणी गुरुवार को सही साबित हुई। दिन भर लगातार हुई बारिश से मौसम का मिजाज बदलकर रख दिया है। वहीं, ठंड और भी बढ़ गई है। उधर, लगातार जारी बारिश से जैसे जन जीवन पूरी तरह से प्रभावित हो गया है। मजबूरी वश लोग बारिश में भीगते हुए निकले। वहीं, बारिश से शहर की गलियों और मुख्य मार्गों पर कीचड़ व जलभराव हो गया है। यही नहीं लोगों जरूरी कार्य से बाहर निकल रहे हैं। बता दें कि बुधवार रात को ही मौसम ने करवट बदल ली थी। बूंदा-बांदी के साथ-साथ हवा भी चलती रही। लेकिन गुरुवार सुबह मौसम और बिगड़ गया। सुबह से लेकर शाम तक बारिश होती रही। दिन में हालांकि, बीच-बीच में धूप निकली, लेकिन मौसम बार बार बिगड़ता रहा। आसमान में काले बादलों के साथ-साथ बारिश जारी रही। मौसम बिगड़ने से लोग सहमे नजर आए। बारिश के चलते मौसम का मिजाज ठंडक भरा हो गया है। उधर, किसानों का कहना है कि यह बारिश गेहूं की फसल के लिए उपयोगी साबित होगी। उधर, शहर में कई जगह जलभराव और कीचड़ फैलने से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। उधर, जलीलपुर क्षेत्र में गुरुवार की सुबह हुई बारिश के साथ हल्की ओलावृष्टि हुई। सुबह सवेरे आकाश में काले बादल छा गये। किसानों का कहना है कि बारिश अगेती गेहूं बुआई के लिए अच्छी है। बारिश होने से किसानों को गन्ने की कटाई में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

---

बारिश से जनजीवन रहा अस्त-व्यस्त

रतनगढ़: गुरुवार सुबह से पड़ रही बारिश के कारण जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। गुरुवार सुबह से ही बारिश के कारण लोग ठंड के कारण ठिठुरते रहे। ज्यादातर लोग अपने-अपने घरों में ही दुबके रहे। सूर्य देवता के भी लोगों को दर्शन नहीं हुए। हल्की बारिश होने गांवों की सड़कों पर बारिश के कारण कीचड़ फैल गया। उधर, नूरपुर क्षेत्र में भी गुरुवार सुबह से ही तेज बारिश ने एक बार फिर से मौसम में ठंडक बढ़ा दी है। हीमपुर दीपा क्षेत्र में प्रात: से रुक- रुक कर हो रही वर्षा से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। तापमान में गिरावट आने से सर्दी बढ़ गई। कोतवाली देहात में क्षेत्र में काली घटा के बाद शीतलहर के साथ हल्की वर्षा हुई। जिसके चलते तापमान में गिरावट के चलते ठंडक का असर अधिक दिखाई दिया। बारिश से गेहूं की लेट बुआई फसल में पानी भरने से किसान चितित है। -बोले वैज्ञानिक

नगीना: कृषि अनुसंधान मौसम वेधशाला के सेवानिवृत्त मौसम प्रेक्षक आरके शर्मा के अनुसार सुबह के समय क्षेत्र का न्यूनतम तापमान 07.0 डिग्री सेल्सियस व आ‌र्द्रता 100 प्रतिशत एवं दोपहर में अधिकतम तापमान 16.4 डिग्री सेल्सियस व आ‌र्द्रता 94 प्रतिशत रही। जिले में 15 एमएम बारिश रिकार्ड की गई। मौसम प्रेक्षक का मानना है कि आगे मौसम खराब रहने के साथ साथ ठिठुरन बने रहने की संभावनाएं हैं। वर्षा से जहां एक ओर किसानों को लाभ होगा, वहीं आलू की खेती करने वाले किसानों को वर्षा से नुकसान पहुंचने की संभावना है।

----------

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस