बिजनौर, टीम जागरण। नजीबाबाद में दिल्ली नंबर की सफेद कार से आए दो पुलिसकर्मियों ने धनौरा में एक परिवार पर धावा बोला और परिवार के एक युवक को घर से खींचकर ले गए। आर्थिक रूप से कमजोर, अशिक्षित और मजदूर पेशा परिवार चिल्लाता रहा, लेकिन पुलिसकर्मियों ने उनसे बात नहीं की। वे युवक को क्यों और कहां ले गए, इस बारे में परिवार को कोई जानकारी नहीं हो पाने से परिवार दिनभर भटकता रहा।धनौरा निवासी रेखा पत्नी चंद्रपाल ने बताया कि सोमवार सुबह करीब 10-11 बजे के बीच उनके घर के पास दिल्ली नंबर की सफेद रंग की एक कार आकर रुकी। उसमें से दो पुलिसकर्मी उनके घर में घुसे और उनके 25 वर्षीय पुत्र श्रवण उर्फ चांदी को जबरन खींचकर कार में डालकर ले गए। माता-पिता के अलावा भाई, भाभी और अन्य लोग चिल्लाते रहे कि पुलिस उसे क्यों और कहां ले जा रही है, मगर उन्होंने कुछ नहीं बताया। रेखा ने बताया कि चांदी दो साल से देहरादून में होटल पर काम कर रहा था। तीन-चार दिन पहले वह एक मुकदमे की तारीख पर घर आया हुआ था। मामले के बाद वह आदर्शनगर पुलिस चौकी गई। कोई सुनवाई नहीं हुई, तो थाने भी गई। वहां भी उसे इस बारे में कुछ पता नहीं होने की बात कहकर लौटा दिया गया। हारकर महिला ने पुलिस अधीक्षक को पत्र भेजकर पुत्र के संबंध में जानकारी कराने और उसके साथ कोई अनहोनी न होने देने की फरियाद की। वहीं, थाना प्रभारी दिनेश गौड़ ने बताया कि युवक को बैटरा चोरी के आरोप में नगीना देहात पुलिस लेकर गई है।

Edited By: Jagran