बिजनौर: जानलेवा हमले के मामले में जिला कारागार में बंद एक बंदी की मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि मारपीट से उसकी मौत हुई है।

स्योहारा थानाक्षेत्र के ग्राम लखीपुरा निवासी अशोक कुमार पुत्र विजयपाल ¨सह ने 20 दिसंबर-13 को गांव के नरेंद्र पुत्र रामपाल को चाकू मारकर घायल कर दिया था। नरेंद्र के भाई सुनील कुमार ने अशोक कुमार व गांव के ही सचिन पुत्र रामनाथ के खिलाफ थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने 6 जनवरी-14 को अशोक कुमार को और इसके चार दिन बाद सचिन को गिरफ्तार किया था। तभी से अशोक जेल में था।

विजयपाल ¨सह का आरोप है कि मंगलवार को पेशी पर आए अशोक से मिलाई को पहुंचे लेकिन पुलिसकर्मियों ने उसे नहीं मिलने दिया। मंगलवार रात उन्हें मौत की सूचना मिली। उनका आरोप है कि जेल में पिटाई और उत्पीड़न के कारण उसकी मौत हुई है। उसके शरीर पर चोटों के निशान हैं। पोस्टमार्टम के बाद परिजन शव को ले गए। चला गया बेटा, परिजनों का बुरा हाल

स्योहारा: अशोक अपने घर का इकलौता बेटा था। जेल जाने के दो माह पूर्व ही उसकी शादी हुई थी। अभी तक कोई संतान भी नहीं है। अशोक की इकलौती बहन लता भी शादी के बाद ससुराल में है। 55 वर्षीय विजयपाल ¨सह के पास मात्र तीन बीघा भूमि है। बेटे के चले जाने के गम में पिता विजयपाल व मां कुसुम गुमसुम हैं। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। इन्होंने कहा...

अशोक को मंगलवार सुबह से लो ब्लड प्रेशर की शिकायत थी। उसे हॉस्पिटल में भर्ती कराया था। तारीख से आने के बाद शाम सात बजे जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। मारपीट का मामला होता तो बंदी कोर्ट में भी बयान देता। ये आरोप निराधार हैं।

आरके मिश्रा, जेल अधीक्षक

Posted By: Jagran