बिजनौर, जागरण टीम। कार्तिक पूर्णिमा गंगा मेले में लगाए गये वैक्सीनेशन कैम्प में चार दिनों में मात्र 521 लोगों ने कोरोनारोधी टीका लगवाया। जबकि 121 संभावित कोरोना रोगियों की जांच की गई। जांच में कोई भी कोरोना संक्रमित नहीं मिला।

गंगा घाट में कार्तिक पूर्णिमा मेले में लाखों श्रद्धालु गंगा मेले में पहुंचे और गंगा स्नान किया। कोरोनारोधी टीकाकरण में तेजी लाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने बिदुर कुटी गंगा घाट पर मेले में स्वास्थ्य विभाग की ओर से चिकित्सा शिविर लगाया गया। शिविर में लोगों को कोरोनारोधी वैक्सीन लगाने की भी व्यवस्था की गई। चिकित्सा शिविर लगातार चार दिन तक चला। जिसमें 521 लोगों ने कोरोना से बचाव की वैक्सीन लगवाई। इसके अलावा 121 बुखार से पीड़ित संभावित कोरोना रोगियों की एंटीजन जांच भी की गई। एंटीजन जांच में एक भी कोरोना रोगी मिलने की पुष्टि नहीं हुई। लाखों लोगों के मेले में पहुंचने के बावजूद मात्र 521 लोगों का टीकाकरण कराना बेहत कम माना जा रहा है। इस संबंध में जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. अशोक कुमार बताते है कि मेले में लोग मौज मस्ती के लिए आते है। वैक्सीनेशन कराने आने वाले अधिकांश लोगों के पास आधार कार्ड नहीं था। साथ ही नेट की कनेक्टिविटी भी कम आ रही थी। इस कारण वैक्सीनेशन कम हुआ। यदि लोगों के पास आधार कार्ड होता तो कहीं अधिक लोग कोरोनारोधी टीका लगवा पाते। शत-प्रतिशत टीकाकरण में सहयोग करें राशन डीलर

संवाद सूत्र, नहटौर : नगर पालिका परिषद कार्यालय में स्वास्थ्य विभाग के तत्वावधान में स्थानीय राशन डीलरों की बैठक हुई। शनिवार को नगर पालिका कार्यालय में आयोजित बैठक में प्रभारी चिकित्साधिकारी डा. आशीष आर्य ने राशन डीलरों से कहा कि जिन व्यक्तियों की 18 वर्ष से अधिक की उम्र है और उनके कोरोना का टीका नहीं लगा है। यदि ऐसे लोग दुकान पर राशन लेने आते हैं तो उनका टीकाकरण का प्रमाण पत्र अवश्य देखें। उन्होंने कहा कि यदि उनके पास टीकाकरण का कोई प्रमाण पत्र नहीं है तो उन्हें चिन्हित किया जाए। साथ ही चिन्हित किए गए व्यक्तियों की सूची स्वास्थ्य विभाग को उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने कहा कि अभी तक जिन वार्डों में 80 प्रतिशत टीकाकरण हुआ है, उन वार्डों में शत प्रतिशत टीकाकरण कराने के लिए लोगों को चिन्हित किया जाए। उन्होंने राशन डीलरों से शत प्रतिशत टीकाकरण कराने में सहयोग करने को कहा।

Edited By: Jagran