बिजनौर, जेएनएन। दिल्ली अग्नि कांड में मुशर्रफ की मौत से जंहा पूरा क्षेत्र सदमे में है। वहीं मंगलवार की सुबह नम आंखों लोगों की भीड़ ने मुशर्रफ के दफिने में भाग लिया। 

दिल्ली अनाजमंडी के पास हुए अग्नि कांड में टांडा माईदास के मुशर्रफ की मौत हो गई थी। सूचना पर प्रधानपति फुरक़ान सलीम व उसके जिगरी दोस्त शोभित अग्रवाल उर्फ मोनू परिजनों को लेकर दिल्ली गए थे। वहां से पोस्टमार्टम होने के बाद सोमवार की रात करीब साढ़े दस बजे मुशर्रफ का शव ग्राम में पहुंचा। गांव में शव पहुंचते ही बड़ी संख्या में लोग

मुशर्रफ के घर पर जमा हो गए। पूरी रात परिजन व लोग सुबह होने का इंतज़ार करते रहे। सुबह होने पर अंतिम दर्शन के लिए उसके घर भारी भीड़ जमा हो गई। जैसे ही जनाज़ा घर से निकला, वैसे ही महिलाओ व पुरुषों में मातम फैल गया। जनाजे के साथ रास्ते भर भीड़ बढ़ती ही चली गई। बस अड्डे के पास मदरसे में जनाजे की नमाज अदा की गई। सुबह करीब 9-30 बजे मुशर्रफ का शव सुपुर्देखाक किया गया। 

Posted By: Taruna Tayal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस