शेरकोट (बिजनौर) : एकादशी पर नगर में सूखे रंग का जुलूस निकाला गया। इस दौरान किसी व्यक्ति ने शिकायत कर दी कि यह जुलूस अवैध रूप से निकाला जा रहा है। इस पर पुलिस में हड़कंप मच गया। सीओ भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे तथा जुलूस रुकवा दिया। इस पर जुलूस निकाल रहे हिदू समाज के लोगों ने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी करते हुए धरना शुरू कर दिया। पुलिस ने इसकी सूचना आला अफसरों को भी दे दी थी।

नगर में रविवार को एकादशी पर सूखे रंग का जुलूस निकाला गया। यह जुलूस मोहल्ला आचारजान स्थित द्रोपदा मंदिर से शुरू हुआ। इसमें हुरियारे एक-दूसरे पर अबीर गुलाल डालते चल रहे थे। साथ ही डीजे व ढोल की थाप पर थिरक रहे थे। जुलूस मोहल्ला आचारजान से होते हुए बैँक ऑफ बड़ौदा के पास पहुंचा ही था कि किसी ने पुलिस से शिकायत कर दी कि जुलूस अवैध रूप से निकाला जा रहा है। इस पर सीओ अफजलगढ़ कृपाशंकर कन्नौजिया, थानाध्यक्ष हिमांशु चौहान पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे तथा जुलूस रुकवा दिया। इससे हिदू समाज के लोग भड़क गए। उन्होंने पुलिस के खिलाफ नारेबाजी शुरु कर दी और वहीं पर धरने पर बैठ गए। बताया जाता है कि इस बीच दूसरे संप्रदाय का कोई भी व्यक्ति इसके विरोध में मौके पर नहीं था। आरोप है कि पुलिस ने डीजे बजाने पर रोक लगाई थी। बाद में सीओ ने लोगों को समझाकर मामला शांत किया। साथ ही जुलूस निकाल रहे लोगों से हस्ताक्षर कराकर उनकी जिम्मेदारी पर जुलूस निकलवाया। इसके बाद जुलूस मोहल्ला शेखान, वीरथला, चौधरियान, फतेहनगर आदि से होते हुए बैंक ऑफ बड़ौदा के पास आकर ही संपन्न हुआ। इस अवसर पर बोनी रस्तोगी, कामेश्वर राजपूत, शरदचन्द्र शर्मा, प्रदीप यादव, मुकेश कुमार, धर्मवीर सैनी, फूल सिंह सैनी, पुनीत कुमार, करन सिंह, हर्ष चौहान, बंटी, पुनीत, नरेश कुमार आदि शामिल रहे। वहीं सीओ कृपा शंकर कन्नौजिया ने बताया कि शांति व्यवस्था के लिए डीजे बजाने पर रोक लगाने की बात कही थी। बाद में जुलूस निकाल रहे मुख्य लोगों से हस्ताक्षर कराकर जुलूस का शुभारंभ करा दिया था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप