जेएनएन, बिजनौर। लखीमपुर खीरी में मारे गए किसानों की कलश यात्रा में अपने वाहनों से शामिल होने जा रहे भाकियू कार्यकर्ताओं की पुरैनी टोल प्लाजा पर टोल लेने को लेकर कर्मचारियों से नोकझोंक हो गई। इसके विरोध में किसानों ने हंगामा कर दिया और एक घंटे तक टोल फ्री करा दिया। बाद में पुलिस और टोल अधिकारियों के हस्तक्षेप पर मामला निपट गया।

शुक्रवार दोपहर भाकियू कार्यकर्ता कलश यात्रा में शामिल होने वाहनों से पुरैनी जा रहे थे। यूनियन के कार्यकर्ता नगीना-धामपुर राष्ट्रीय राज्यमार्ग-74 स्थित टोल प्लाजा पर पहुंचे तो टोल पर तैनात कर्मचारियों की किसानों से नोकझोंक हो गई। किसानों ने टोल प्लाजा पर जाम लगा दिया और टोल फ्री करा दिया। सूचना पर टोल अधिकारी मौके पर पहुंचे और किसानों को समझाने लगे, लेकिन वह नहीं माने और लगभग एक घंटे तक टोल फ्री कराए रखा। बाद में थाना प्रभारी कृष्ण मुरारी दोहरे ने किसानों को समझा-बुझाकर शांत किया। इसके बाद टोल पुन: सुचारू कराया गया। टोल अधिकारियों का कहना है कि तमाम लोग प्रतिदिन अपने वाहन टोल फ्री करने के लिए दबाव बनाते हैं, जो संभव नहीं है। थाना प्रभारी ने बताया कि भाकियू कार्यकर्ताओं टोल फ्री कराया था, उन्हें समझा-बुझाकर शांत कर दिया गया। कार्यकर्ताओं ने कहा कि यदि उनकी मांगों पर शीघ्र कार्रवाई नहीं हुई तो वह आंदोलन के लिए बाध्य होंगे। बाद में कार्यकर्ता अपने वाहनों के साथ कलश यात्रा में शामिल होकर नजीबाबाद की ओर कूच कर गए। टोल फ्री कराने वालों में नितिन सिरोही, चौधरी बलजीत सिंह, नरेंद्र सिंह, नमेंद्र सिंह, खड़क सिंह, वीर सिंह डवास, राजवीर, सोनू पाल, जगजीत समेत दर्जनों कार्यकर्ता शामिल रहे।

Edited By: Jagran