बिजनौर: मोहित पेट्रो केमिकल फैक्ट्री में सबकुछ कागजों पर सही चल रहा था। जिले का प्रभार सहायक निदेशक कारखाना मुजफ्फरनगर के पास होने के कारण यहां की जांच पड़ताल वहीं बैठकर सिर्फ कागजों में चलती थी। मेरठ से जांच को पहुंचे डिप्टी डायरेक्टर ने फैक्ट्री मालिक की लापरवाही बताते हुए न्यायालय में वाद दायर करने की बात कही है।

कारखाना विभाग में मोहित पेट्रो केमिकल रजिस्टर्ड है। नियमानुसार कारखाना विभाग से समय-समय पर इसकी जांच होनी चाहिए। जिले का कामकाज देख रहे असिस्टेंट डायरेक्टर रवि कुमार का स्थानांतरण होने के बाद से यह प्रभार मुजफ्फरनगर के अधिकारी के पास है। फिलहाल वह ट्रे¨नग पर गए हुए हैं। जानकारों का कहना है कि कारखाना विभाग के अधिकारी मौके पर नहीं आते हैं। मुजफ्फरनगर ही फैक्ट्री के मैनेजर को बुलाकर कागजी पेट भर लेते हैं। बुधवार को मेरठ से जांच के लिए डिप्टी डायरेक्टर आरएस माथुर ने पूरी घटना की जांच की। हालांकि मौके पर कोई रिकार्ड नहीं मिला और किसी ने कोई जानकारी उन्हें नहीं दी। जांच के बाद डिप्टी डायरेक्टर आरएस माथुर ने बताया कि प्रथम²ष्टया लापरवाही सामने आई है। फैक्ट्री में कारखाना के नियमों का पालन नहीं किया जा रहा था। टैंक खराबी की सूचना भी फैक्ट्री मालिक ने विभाग को नहीं दी। बगैर सूचना दिए कोई कार्य नहीं होना चाहिए था। फैक्ट्री में सुरक्षा इंतजाम भी नहीं मिले। उन्होंने बताया कि सक्षम न्यायालय में विभाग से फैक्ट्री स्वामी के खिलाफ वाद दायर किया जाएगा। इसके लिए साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं।

Posted By: Jagran