बिजनौर, जेएनएन : डीएम रमाकांत पांडेय ने कहा कि सरकार सूबे में औद्योगिक विकास के लिए अति संवेदनशील है, इसलिए उद्योग प्रोत्साहन के लिए विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम एवं योजनाएं संचालित कर रखी है। डीएम ने सोमवार को कलक्ट्रेट सभाकक्ष में प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना, मुद्रा योजना, इंडिया ऋण योजना आदि योजनाओं की बिदुवार समीक्षा की। उन्होंने कहा कि जिन योजनाओं में भौतिक लक्ष्य के सापेक्ष अभी कम आवेदन प्राप्त हुए हैं, उनके लक्ष्य को पूरा करना सुनिश्चित करें। वहीं उद्यमियों से जीएसटी में पंजीकरण कराने का आह्वान किया। डीएम ने कहा कि जिले में उद्योगों की स्थापना को प्रोत्साहित करने के लिए जिला स्तरीय उद्यमी कार्यशाला एवं सेमीनार का आयोजन करने की हिदायत दी। उन्होंने कहा कि इस बार आर्थिक गणना 2019 सीएससी0 द्वारा करायी जायेगी। डीएम ने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि वह आर्थिक गणना के कार्य को पूरी गुणवत्ता के आधार पर सम्पन्न कराया जाए। बैठक में सीडीओ कामता प्रसाद सिंह, एडीएम प्रशासन, एडीएम वित्त एवं राजस्व एवं एडीएम न्यायिक, उपायुक्त उद्योग समेत सम्बन्धित विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस