जेएनएन, बिजनौर। ग्राम मारूफपुर के जंगल में दबंगों ने रास्ता बनाने को चार किसान भाइयों की गन्ने की फसल उजाड़ दी। शिकायत मिलने पर एसडीएम ने तहसीलदार को जांच के आदेश दिए है।

ग्राम मारूफपुर निवासी महीपाल सिंह, नंदकिशोर, समर पाल सिंह पुत्र तिरमल सिंह ने शनिवार को एसडीएम परमानंद झा को दिए प्रार्थनापत्र में आरोप लगाया कि गांव के कुछ दबंगों ने उनके गन्ने के खेत में आम रास्ता बताकर लेखपाल एवं कानूनगो की मिलीभगत से हजारों रुपये की गन्ने की फसल उजाड़ डाली। आरोप है कि उक्त लोग उनकी कृषि उपजाऊ भूमि में अपनी फसल की सिचाई के लिए जबरन नाली निकालना चाहते हैं। उन्होंने दबंगों के खिलाफ कार्रवाई करने एवं निष्पक्ष रूप से पैमाइश कराने की मांग की है। वहीं एसडीएम ने तहसीलदार को दोनों पक्षों की मौजूदगी में निष्पक्ष पैमाइश करने के आदेश दिए है। भू-राजस्व निरीक्षक नरेश कुमार का कहना है कि उक्त जमीन में सार्वजनिक रास्ता है, जिसकी पैमाइश कराने के लिए दूसरे पक्ष के ताहर सिंह ने 22 जून को थाना दिवस में प्रार्थनापत्र दिया था, जिसके आधार पर कार्रवाई की गई है। उल्लेखनीय है कि दोनों पक्षों के बीच वर्ष 2017 से उक्त जमीन को लेकर चल रहा विवाद अदालत में विचाराधीन है।

Posted By: Jagran