जेएनएन, बिजनौर। विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग प्रदान करने वाला बिल एंड मिलिडा गेट्स फाउंडेशन (बीएमजीएफ) जिला अस्पताल में आक्सीजन प्लांट लगाएगा। प्लांट के लिए स्थान का चयन कर लिया गया है। शीघ्र ही आक्सीजन प्लांट लगाने का कार्य शुरू कर दिया जाएगा। प्लांट लगने से भविष्य में रोगियों को आक्सीजन की कमी नहीं होगी।

जिले में चल रहे दो आक्सीजन प्लांट में से नजीबाबाद स्थित प्लांट पिछले एक सप्ताह से भी अधिक समय तक बंद रहा। प्लांट बंद रहने का कारण लिक्विड मेडिकल आक्सीजन (एलएमओ) नहीं मिलना रहा। अब रविवार को एलएमओ मिलने के बाद प्लांट शुरू हो सका। ऐसे में जिलेभर को आक्सीजन सप्लाई करने का भार अकेले बिसाठ (हल्दौर) के ऊपर आ गया। अब जिला अस्पताल में आक्सीजन प्लांट लगने से रोगियों की आक्सीजन की कमी से मौत नहीं होगी। इतना ही नहीं बिसाठ में चल रहे आक्सीजन प्लांट के स्वामी ने भी हल्दौर में एक और प्लांट लगाने के लिए आवेदन किया है। क्या कहते हैं अधिकारी

कोरोना संक्रमण के चलते वह होम क्वारंटाइन है। फिर भी वह फाउंडेशन के अधिकारियों से संपर्क बनाए हुए हैं। आक्सीजन प्लांट के लिए 30 बाई 30 की जगह आइज ओटी के बराबर में (पार्क में) चयनित की गई है। इस स्थान का लाभ जल्द ही बनने वाले 200 बेड के अस्पताल को भी मिलेगा। अस्पताल निर्माण के लिए कार्यदायी संस्था वैसकोन ने कोरोना काल में ही अस्पताल बनाने के लिए अनुमति ले ली है। उम्मीद है कि आक्सीजन प्लांट का कार्य जल्द ही शुरू होगा। लगातार जिला अस्पताल में जल्द ही आक्सीजन प्लांट लगेगा।

-डा. अरुण कुमार, सीएमएस