बिजनौर, जेएनएन। भारतीय स्टेट बैंक साहनपुर शाखा के फील्ड अफसर चैतन्य भारद्वाज की मौत के बाद साहनपुर शाखा पर बैंकिग सेवाएं चरमरा गईं हैं। बैंक शाखा पर फील्ड अफसर का प्रमुख पद खाली होने के साथ साथ दो लिपिकीय पद खाली पड़े हैं। जिससे बैंक पर आने वाले खाताधारकों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

एसबीआइ साहनपुर शाखा के फील्ड अफसर चैतन्य भारद्वाज की रहस्यमयी परिस्थितियों में मौत हो गई थी। उनका रक्तरंजित शव 16 सितंबर को आदर्शनगर में किराए पर लिए मकान के बाथरूम में पड़ा मिला था। चैतन्य की कनपटी पर गोली लगी थी तथा पिस्टल उनके दोनों पांवों के बीच पड़ा था। चैतन्य की मौत के बाद से एसबीआइ साहनपुर शाखा का फील्ड अफसर का पद खाली पड़ा है। साहनपुर शाखा से काफी बड़ा क्षेत्र जुड़ा है। ऋण आदि बैंकिग सेवाओं पर ब्रेक लग गया है। वहीं बैंक पर कार्यरत एक लिपिक सुनील कुमार छह सितंबर से लगातार अवकाश पर हैं। बताया गया है कि सुनील अपनी बीमार मां के उपचार में लगे हैं।

एक अन्य लिपिक रजत विश्नोई का मई में स्थानांतरण हो चुका है। तब से आज तक उनके स्थान पर दूसरा लिपिक नहीं मिला है। जिससे वह सीट भी खाली पड़ी है। एसबीआइ साहनपुर बैंक शाखा को अब शाखा प्रबंधक, एक लिपिक और एक चपरासी चला रहे हैं। बैंक कर्मियों पर निरंतर बढ़ते काम के बोझ से बैंक आने वाले खाताधारक भी परेशान हैं। धनराशि के लेन-देन, खाता खुलवाने, विभिन्न बैंक स्कीम से जुड़े खाताधारक घंटों परेशान होकर वापस लौट रहे हैं। इन्होंने कहा ..

शाखा से साहनपुर टाउन एरिया, करीब दो दर्जन गांवों के करीब 40 हजार खाताधारक जुड़े हैं। बैंक शाखा पर स्टाफ अपर्याप्त है। बैंकिग कार्य प्रभावित होने से कुछ खाताधारक अशोभनीय व्यवहार पर आमादा हैं। ऐसे ग्राहकों को समझाते हुए कार्य किया जा रहा है। स्थिति से उच्चाधिकारियों को अवगत कराया जा चुका है।

-बाबूराम सिंह, शाखा प्रबंधक, एसबीआइ साहनपुर नजीबाबाद

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप