जेएनएन, बिजनौर। कोरोना वायरस को मात देने के लिए खानपान में हैवी प्रोटीन लेने की जरूरत है। जमीन के नीचे पैदा होने वाले उत्पादों का सेवन कम से कम करें अथवा न ही करें तो बेहतर है।

युवा चिकित्सक डा. नौशाद अंसारी ने यह बात कही। वे कहते हैं कि बुखार, गले में खराश अथवा दर्द, नजला-जुकाम, खांसी की शिकायत होने पर शुरुआत में ही चिकित्सक के परामर्श पर दवा लेना शुरू कर दें। बाहर निकलने पर कोरोना संक्रमण का खतरा होने की स्थिति को देखते हुए चिकित्सक से आनलाइन संपर्क भी किया जा सकता है। खानपान को बेहतर बनाने के साथ घरेलू उपचार से भी बीमारी के शुरुआती लक्षणों से बचा जा सकता है। पर्याप्त नींद, व्यायाम, भाप, गर्म पानी और आयुर्वेदिक तत्वों का सेवन इसमें लाभकारी है। डा. नौशाद अंसारी कहते हैं कि हैवी प्रोटीन में मशरूम, पनीर, सोयाबीन, अंडा, उबला हुआ चिकन और चिकन सूप लिया जा सकता है। जमीन के नीचे पैदा होने वाले पदार्थो आलू, गाजर, मूली, चुकंदर आदि का सेवन कम से कम करें। इनमें ग्लूकोज, लैक्टोज, सुकरोज की अधिकता होती है। यह कोरोना वायरस की खुराक होती है। विटामिन-सी पर्याप्त मात्रा में लें। नींबू इसका मुख्य स्त्रोत है। मेडिकल ट्रीटमेंट में लिम्सी और जिकोविट टेबलेट भी ले सकते हैं।

मोहल्लों में लोगों को वितरित किए मास्क

द लायन ग्रुप आफ इंडिया के तत्वावधान में स्थानीय कई मोहल्लों में लोगों को मास्क वितरित किए गए। इस दौरान शासन की गाइडलाइन का पूरा ख्याल रखा गया। इस दौरान लोगों से बिना वजह घर से बाहर न निकलने तथा भीड़भाड़ वाले स्थान पर न जाने का भी आह्वान किया गया।

कोरोना संक्रमण कम होने का नाम नहीं ले रहा है। इसके चलते गुरुवार को नगीना चौक, पुराना धामपुर, पहाड़ी दरवाजा, नेजो सराय, महल सराय, अफगानान आदि मोहल्लों में लोगों को निश्शुल्क मास्क वितरित किए गए। ग्रुप जिलाध्यक्ष खुर्शीद अंसारी ने कहा कि कोरोना से बचाव को सावधानी जरूरी है। शासन की गाइडलाइन का पूरा पालन किया जाए तथा बिना वजह घरों से बाहर न निकला जाए। उन्होंने बताया कि ग्रुप द्वारा निश्शुल्क मास्क वितरण कार्यक्रम निरंतर चलता रहेगा। इस अवसर पर राजकुमार विश्नोई, शहजाद अंसारी, प्रमोद जोशी, ताजिम अंसारी, मोहम्मद अरशद, पंकज गुप्ता, राजकुमार शर्मा, फराज तनवीर, जावेद अहमद आदि शामिल रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप