बिजनौर, जागरण टीम। बिजनौर सदर सीट पर चल रहा गठबंधन प्रत्याशी का विवाद नामांकन के अंतिम दिन शुक्रवार को सुलझ गया। सपा प्रत्याशी डा. रमेश तोमर ने नामांकन नहीं किया। इसके साथ ही तमाम अटकलों पर विराम लग गया है। बताया जा रहा है कि सपा और रालोद के राष्ट्रीय अध्यक्षों के हस्तक्षेप के बाद यह मामला निपटा है।

एक सप्ताह से बिजनौर के सदर सीट पर गठबंधन प्रत्याशी को लेकर घमासान चल रहा था। रालोद ने डा. नीरज चौधरी को प्रत्याशी बनाया था। सपा नेता डा. रमेश तोमर सपा से सिबल ले आए थे। 24 जनवरी को रालोद प्रत्याशी डा. नीरज ने नामांकन करा दिया था। डा. रमेश खुद को गठबंधन का प्रत्याशी होने का दावा कर रहे थे। दो बार नामांकन करने की घोषणा कर चुके डा. रमेश ने हाईकमान की ओर से इशारा मिलने पर नामांकन नहीं किया था। शुक्रवार को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और रालोद सुप्रीमो जयंत सिंह के हस्तक्षेप के बाद विवाद सुलझ गया। डा. रमेश ने अंतिम दिन नामांकन कराने से इन्कार कर दिया। अपने आवास पर पत्रकार वार्ता कर इसकी घोषणा की। उन्होंने कहा कि वह सपा के सच्चे सिपाही हैं। 30 साल से सपा में काम कर रहे हैं। अब गठबंधन प्रत्याशी डा. नीरज चौधरी ही चुनाव लड़ेंगे। इस दौरान जिलाध्यक्ष राशिद हुसैन, चेयरपर्सन पति शमशाद अंसारी, अखलाक पप्पू समेत नेता मौजूद रहे। पुलिस ने चलाया चेकिंग अभियान

विधानसभा चुनाव के मद्देनजर पुलिस प्रशासन अलर्ट मोड पर है। शुक्रवार को कोतवाली पुलिस ने जलीलपुर क्षेत्र की पांडव नगर चौकी क्षेत्र में चेकिग अभियान चलाया। पूरे दिन पुलिस वाहनों की चेकिग करती रही। धनौरा मार्ग समेत अन्य जगह भी पुलिस ने चेकिग अभियान चलाया। हीमपुरदीपा में शुक्रवार को थानाध्यक्ष संजय तोमर की मौजूदगी में स्थानीय पुलिस एवं अतिरिक्त बीएसएफ बटालियन के जवानों ने विधानसभा चुनाव के दृष्टिगत शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए रतनपुर खुर्द, हीमपुरदीपा, अकबरपुर तिगरी, रावटी, उमरी पीर, मुबारकपुर में पैदल मार्च किया। थानाध्यक्ष ने ग्रामीणों से शांति व्यवस्था के बीच निर्धारित तिथि में होने वाले विधानसभा के चुनाव में मतदान करने का आह्वान किया।

Edited By: Jagran