बिजनौर : एनआइए अफसर तंजील अहमद हत्याकांड के मुख्य आरोपी मुनीर और उसके चार दोस्तों पर गैंगस्टर लगाई गई है। मुनीर को लखनऊ पुलिस वारंट बी पर ले गई है। अन्य जिला जेल में बंद हैं।

स्योहारा थानाक्षेत्र के गांव सहसपुर निवासी एनआइए अफसर तंजील अहमद व उनकी पत्नी फरजाना की दो अप्रैल की रात गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने हत्याकांड में शामिल सहसपुर निवासी रियान, जैनी, तंजीम व रिजवान को गिरफ्तार किया था। मुख्य आरोपी मुनीर को 28 जून को एसटीएफ ने दबोचा था। मुनीर को पुलिस वारंट बी पर 29 जुलाई को लाई थी। रिमांड पर पूछताछ के दौरान मुनीर ने कई राज उगले। मुनीर ने धामपुर में पंजाब नेशनल बैंक से 91 लाख रुपये लूटना भी स्वीकार किया था। तंजील हत्याकांड में पुलिस ने दो बार चार्जशीट दाखिल की थी। पहले रियान, जैनी, तंजीम व रिजवान के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की थी। एक सप्ताह पूर्व एसओ स्योहारा ने मुनीर के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया। पुलिस ने गुरुवार को मुनीर व उसके चारों साथियों को गैंगस्टर में निरुद्ध कर दिया। एसपी देहात डा. धर्मवीर ¨सह ने बताया कि अपराध गिरोह बनाकर किया गया है, इसलिए गैंगस्टर की कार्रवाई की गई है।