जागरण संवाददाता, ज्ञानपुर (भदोही) : आधुनिक सुख सुविधाओं की लालसा में भौतिक संसाधनों का अंधाधुंध प्रयोग के दिनों दिन असंतुलित होते पर्यावरण को कैसे बचाया व स्वच्छ रखा जाय। इसे लेकर चल रहे तमाम प्रयासों के बीच अब परिषदीय प्राथमिक विद्यालय के बच्चों को भी इसके लिए जागरूक किया जाएगा। बच्चों को पर्यावरण संरक्षण का ज्ञान देने के लिए गुरुजनों को दक्ष किया जाने लगा है। गुरुवार से सभी ब्लाक संसाधन केंद्रों में शिक्षकों के चार दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम को शुरू कर दिया गया है।

राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद, उत्तर प्रदेश, लखनऊ के अंतर्गत ब्लाक संसाधन केंद्र ज्ञानपुर में शुरू हुए प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रशिक्षक महेंद्र ¨सह, योगेश पांडेय, आराधना शर्मा व र¨वद्र कुमार पांडेय ने प्रत्येक विद्यालयों से आए एक-एक शिक्षकों को पर्यावरणीय संरक्षण की चुनौतियों के समझना एवं उसके निदान हेतु ¨चतन करने, संवैधानिक मूल्यों एवं कानून के महत्व को समझने पर विस्तार से जानकारी दी। पर्यावरण संरक्षण में ग्राम पंचायत की भूमिका, प्राकृतिक आपदाओं के कारण एवं बचाव के उपायों आदि के बारे में बताया। महेंद्र ¨सह ने बताया कि कार्यक्रम का उद्देश्य है कि परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में अध्ययनरत कक्षा तीन से पांच तक के बच्चों को पर्यावरण संरक्षण के बारे में जानकारी दी जाय। ताकि वह पर्यावरण के प्रति सजग हों। साथ ही जब बच्चे सजग होंगे तो वह अपने साथ अन्य को भी जागरुक करेंगे। बताया कि प्रशिक्षण प्राप्त कर शिक्षकों द्वारा उन्हें पर्यावरण के महत्व के बारे में बताया जाएगा। इस मौके पर धीरज ¨सह, रुक्मिणीकांत, विनोद ¨सह सहित बड़ी संख्या में शिक्षक थे।

Posted By: Jagran