जासं, भदोही : वाराणसी-लखनऊ रेलखंड के सिद्धार्थनगर व कुंदनगंज स्टेशनों के मध्य चल रहे नॉन इंटरलाकिग कार्य के मद्देनजर रेलखंड की तीन जोड़ी ट्रेनों को परिवर्तित मार्ग से चलाया जा रहा जबकि इंटरसिटी एक्सप्रेस को लखनऊ के बजाए रायबरेली तक चलाया जा रहा है। इससे यात्रियों के लिए परेशानी बढ़ गई है। शनिवार को विभिन्न ट्रेनों से यात्रा करने स्टेशन पहुंचे यात्रियों को झटका लगा। विवश होकर दो से ढाई सौ यात्री वापस लौट गए। उधर वाराणसी से नई दिल्ली को जाने वाली एकमात्र ट्रेन काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस में इसके चलते भारी भीड़ रही।

एनआई कार्य के मद्देनजर विभाग ने विभिन्न रेलखंडों से लखनऊ को जाने वाली एक दर्जन ट्रेनों को रद कर दिया। वाराणसी-लखनऊ के बीच चलने आधा दर्जन गाड़ियों का परिचालन प्रभावित हुआ है। सुबह 6 बजे लखनऊ को जाने वाली 14219 अप इंटरसिटी एक्सप्रेस को लखनऊ के बजाए राय बरेली तक चलाया जा रहा है। जिससे लखनऊ जाने वाले यात्रियों की समस्या बढ़ गई है। इसी तरह हावड़ा से अमृतसर के बीच चलने वाली पंजाब मेल व पुरी से नई दिल्ली के बीच चलने वाली नीलांचल एक्सप्रेस वाराणसी-सुल्तानपुर वाया जफराबाद होकर जबकि जम्मू तवी से राजेंद्र नगर के बीच चलने वाली अर्चना एक्सप्रेस को वाराणसी-फैजाबाद वाया जफराबाद के रास्ते चलाया जा रहा है।

उधर वाराणसी से देहरादून के बीच चलने वाली जनता एक्सप्रेस व वाराणसी-लखनऊ के बीच चलने वाली वीपील सवारी गाड़ी पहले से ही निरस्त है। ऐसे में तीन प्रमुख ट्रेनों का मार्ग परिवर्तन होने से यात्रियों के लिए बड़ी मुसीबत खड़ी हो गई है। बताते चलें कि सुबह 10 बजे लखनऊ की ओर जाने वाली पंजाब मेल से बढ़ी संख्या में लोग प्रतापगढ़, अमेठी सहित अन्य स्टेशनों की यात्रा करते थे लेकिन अब उनके सामने काशी विश्वनाथ एक्सप्रेस (केवी) के अलावा दूसरा विकल्प नहीं है। इसी तरह नीलांचल व अर्चना एक्सप्रेस के यात्री भी हलकान हो रहे हैं। शनिवार को जानकारी के अभाव में बड़ी संख्या में लोग स्टेशन पहुंचे थे लेकिन उन्हें निराशा का सामना करना पड़ा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस