जागरण संवाददाता, ज्ञानपुर (भदोही) : कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में अनामिका शुक्ला का प्रकरण सामने आने के बाद शासन पूरी तरह गंभीर हो उठा है। बेसिक से लेकर उच्च शिक्षा तक के क्षेत्र में हुई नियुक्तियों पर जांच शुरू करा दी है। बुधवार को काशी नरेश राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय ज्ञानपुर में तैनात सभी प्राध्यापकों के शैक्षिक अभिलेख के मूल दस्तावेज की जांच की गई।

केएनपीजी कालेज में नियुक्त प्राध्यापकों के शैक्षिक अभिलेखों के सत्यापन के लिए उप जिलाधिकारी ज्ञानपुर कविता मीना की अध्यक्षता में काशी विद्यापीठ वाराणसी के वित्त अधिकारी व डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी महाविद्यालय भदोही के वरिष्ठ प्राध्यापक की तीन सदस्यीय समिति बनाई गई थी। कमेटी ने पहुंचकर महाविद्यालय में तैनात सभी प्राध्यापकों के अभिलेखों की जांच की। प्राध्यापकों ने बारी-बारी से पहुंचकर अपने मूल शैक्षिक व अन्य दस्तावेजों की जांच कराई। एसडीएम ने बताया कि सत्यापन कर लिया गया है। किसी तरह की कोई गड़बड़ी सामने नहीं आई है। रिपोर्ट शासन को भेज दी जाएगी। इस मौके पर प्राचार्य डॉ. पीएन डोंगरे सहित अन्य प्राध्यापक थे।

Edited By: Jagran