जासं, भदोही: जलनिकासी के अभाव में कालीन नगरी के गली मोहल्लों में जलप्लावन की स्थिति हो गई है। पहले से समस्याग्रस्त वार्डो की हालत बेहद दयनीय है। सड़क से लेकर बस्ती तक जलजमाव व कीचड का साम्राज्य कायम है। राहगीरों का आवागमन दूभर हो उठा। विशेषकर जल्लापुर वार्ड के नईबस्ती मोहल्ला के लोगों की स्थिति बदहाल है।

दशकों से उपेक्षित वार्ड की कुछ बस्तियां जहां पेयजल, जलनिकासी जैसी गंभीर समस्या से जूझ रही हैं तो वार्ड का मुख्य मार्ग जलजमाव व कीचड़ की जद में है। मोहल्लों में जगह-जगह डंप कूड़े वातावरण को दूषित करने का काम कर रहे हैं। पालिका बोर्ड के लाख कवायद के बावजूद जलनिकासी समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है। बारिश होते ही गली मोहल्लों से लेकर घरों की दहलीज तक पानी पहुंच जाता है। यह सिलसिला दशकों से चला आ रहा है। पिछले दिनों हुई बारिश के दौरान नगर के सर्वाधिक जलजमाव वाला क्षेत्र साबित हुआ था। इस बार भी स्थिति बेहद खराब है। एक माह से अनवरत जलजमाव की स्थिति रहने से मोहल्ले का वातावरण प्रदूषित हो गया है।

-----------------

नागरिक उवाच.

वार्ड की कुछ बस्तियों में विकास कार्य कराए जा रहे हैं लेकिन कुछ बस्तियों की उपेक्षा हो रही है। विशेषकर मुस्लिम व दलित बस्ती को लेकर पालिका की अनदेखी चिता का विषय बनी हुई है।

चित्र 07-शाह आलम।

----------------

बस्ती में जलनिकासी के साथ पेयजल संकट परेशानी का सबब बना है। पानी के लिए लोगों को दूसरे की दया²ष्टि पर निर्भर रहना पड़ता है। भीषण गर्मी के दिनों में हैंडपंप भी जवाब दे जाते हैं।

चित्र- 08-विनोद कुमार।

----------------

जगह-जगह कीचड़ व जलजमाव होने के कारण लोगों का आवागमन दूभर हो गया है। बार-बार पालिका को अवगत कराने के बाद भी निकासी के लिए कोई प्रबंध नहीं किया जा रहा है।

चित्र- 09-आबिद हुसैन।

-----------------

जलनिकासी व्यवस्था के नाम पर भारी भरकम रकम खर्च किया जा चुका है। समस्या का कितना समाधान होगा यह आने वाले समय में पता चलेगा लेकिन वर्तमान समय संकट बढ़ गया है।

चित्र-10-नसीमुद्दीन सिद्दीकी।

Edited By: Jagran