जागरण संवाददाता, ज्ञानपुर(भदोही) : लोक निर्माण विभाग में 50 से अधिक सड़कों की निविदा निरस्त कर दी गई है। वेबसाइट पर निविदा अपलोड न होने पर मुख्य अभियंता लखनऊ ने जनवरी के पहले सप्ताह में ही पूरी प्रकिया को ही निरस्त कर दिया है। विधानसभा चुनाव तक अब इन सड़कों के लिए इंतजार करना होता। अधिशासी अभियंता एसबी राव का कहना है कि आचार संहिता लगने के पहले जो भी कार्य शुरू कराए गए हैं उसमे और तेजी लाने को कहा गया है जबकि 50 से अधिक सड़कों की निविदा प्रक्रिया शासन स्तर से ही निरस्त कर दिया गया है।

शासन की ओर से सड़कों के निर्माण के लिए दो करोड़ से अधिक का बजट स्वीकृत किया गया है। लोक निर्माण विभाग के अभियंता की लापरवाही से निविदा की प्रकिया पूरी नहीं की जा सकी है। विभागीय सूत्रों का कहना है कि निविदा तो निकाली गई थी लेकिन अपने खास लोगों को लाभ पहुंचाने लिए अभियंताओं ने अधिकृत वेबसाइट पर अपलोड नहीं किया गया। वेबसाइट पर अपलोड न होने से निविदा प्रक्रिया पूरी नहीं हो सकी। मुख्य अभियंता ने मामले को गंभीरता से लेत हुए पूरी प्रकिया ही निरस्त कर दिया। अधिशासी अभियंता का कहना है कि बजट और शासनादेश विलंब से मिले थे। इसके कारण निविदा नहीं कराई जा सकी है। अब विधानसभा चुनाव के बाद निविदा आदि की प्रक्रिया फिर से शुरू की जाएगी। बताया कि आचार संहिता के पहले स्वीकृत सड़कों के निर्माण कार्य को और तेज करने को कहा गया है। ठेकेदारों को हिदायत दी गई है कि जिन सड़कों के निर्माण के लिए तीन माह का समय दिया गया था उसे हर हाल पूर्ण कर लिया जाए। अन्यथा निविदा को निरस्त कर दी जाएगी।

Edited By: Jagran