जागरण संवाददाता, भदोही : पालिका की उपेक्षा शहर के घमहापुर वार्ड में साफ दिखाई पड़ रही है। जलजमाव व कीचड़ के चलते जहां लोग बेहाल हैं वहीं राहगीरों का आवागमन दूभर हो गया है। छितनी तालाब से घमहापुर होते हुए बाइपास को जाने वाली सड़क गड्ढों में तब्दील हो चुकी है। पालिका प्रशासन की लाख कवायद के बावजूद जलनिकासी समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है। सीवरलाइन बिछाने के दौरान खोदी गई सड़क पर आवगमन ठप है। समस्या को लेकर लोग परेशान हैं लेकिन समाधान की दिशा में पालिका ने कोई कदम नहीं बढ़ाया। जलनिकासी व्यवस्था का अभाव होने से वार्ड की प्रमुख सड़क जलमग्न रहती है। बारिश होते ही गली मोहल्लों से लेकर घरों की दहलीज तक पानी पहुंच जाता है। यह सिलसिला दशकों से चल रहा। समस्या के समाधान को पालिका ने पिछले साल चार करोड़ से सीवरलाइन डाली थी, फिर भी समस्या बनी हुई है।

-------------

सड़क निर्माण शुरू हुआ लेकिन राहत नहीं मिली

बारिश के बाद प्रस्तावित सड़क का निर्माण कार्य शुरू हुआ तो लोगों को राहत मिली थी लेकिन कुछ दूरी तर निर्माण कार्य के बाद पुन: ठप हो गया। विशेषकर दलित बस्ती व मुस्लिम बस्ती की स्थिति बेहद खराब है। सड़क पर कीचड़ होने के कारण लोगों का आवागमन दूभर हो गया है। कूड़ा सड़ रहा है और बदबू के चलते यहां जिदगी नारकीय होती दिखाई पड़ रही है।

----------------

बारिश के दिनों में जलजमाव की समस्या दशकों से चली आ रही है। निकासी न होने से मामूली बारिश भी परेशानी का कारण बन जाती है। इस बार तो सड़क पर चलने लायक नहीं रह गया है।

32-शेरू राइन

----------------

सीवर लाइन डालने के लिए सड़क को खोदकर बर्बाद कर दिया गया। जगह जगह कीचड़ व जलजमाव होने के कारण लोगों का आवागमन दूभर हो गया है। कब बनेगी सड़क कोई नहीं जानता।

33-नजरुद्दीन शाह

-----------------

जल निकासी व्यवस्था के नाम पर भारी भरकम रकम खर्च किया जा चुका है। समस्या का कितना समाधान होगा यह आने वाले समय में पता चलेगा लेकिन वर्तमान समय संकट बढ़ गया है।

34-नगमा बेगम

------------------

जनता समस्या से बेहाल है। पालिका प्रशासन सब कुछ जानते हुए भी अनजान बनी है। सड़क पर बोल्डर या राबिश डाल दिया जाए तो काफी हद तक राहत मिल सकती है।

35-सितारा बानो

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस