जागरण संवाददाता, ज्ञानपुर, भदोही : लोक निर्माण विभाग ने तीन साल पहले बिजली विभाग को एक करोड़ रुपये पोल और ट्रांसफार्मर शिफ्ट करने के लिये जमा किये थे। इसके बाद भी कुछ नहीं हुआ, अब जब इंदिरा मिल से धौरहरा पुल तक करीब चार किलोमीटर तक फोर लेन निर्माण कार्य रफ्तार पकड़ चुका है तो शिफ्टिग में लापरवाही पूरी परियोजना पर भारी पड़ रही है। पिछले दिनों बिजली विभाग के अधिशासी अभियंता ने दावा किया था कि उन्होंने सौ पोल शिफ्ट कर दिये हैं, लेकिन पीडब्ल्यूडी ने यह कह दिया है कि कोई पोल शिफ्ट नहीं हुआ। झूठ बोल रहा है बिजली विभाग। अब दो विभागों के बीच जबरदस्त रॉर मचती दिख रही। सहायक अभियंता एके सिंह ने बताया कि करीब 200 पोल के लिये जब पैसा इतने साल पहले जमा किया जा चुका है तो शिफ्ट करने में संकोच क्यों। कोई पोल शिफ्ट नहीं हुआ है। सफेद झूठ बोला जा रहा है। उधर विद्युत उपकेंद्र प्रथम के अधिशासी अभियंता राम कुमार ने बताया कि 180 से अधिक खंभों की शिफ्टिग हो चुकी है।

-----------

मौत बनकर नीचे लटक रहे लो-टेंशन तार : पीडब्ल्यूडी का कहना सही भी लग रहा धरातल पर। क्योंकि 100 से ज्यादा पोल सड़क पर शोपीस बनकर खड़े हैं। नई बाजार के आगे लोटेंशन लाइनें नीचे लटक रही है। शनिवार को वह कई राहगीरों के लिये झटका साबित हुई हैं। कई पोल तो नीचे लटक गये हैं, वह कब राह से गुजरने वालों पर गिर जाएं कोई भरोसा नहीं।

वर्जन

विवेकानंद चौराहे से धौरहरा पुल तक नौ खंभों को हटाया जाना शेष है। मथुरापुर के पास एक दर्जन नए खंभों लगा दिए गए हैं। इतने ही पुराने खंभों को हटाने का काम चल रहा है। दो दिन के अंदर सभी खंभों की शिफ्टिग का काम पूरा कर लिया जाएगा। राम कुमार, अधिशासी अभियंता, विद्युत उपकेंद्र प्रथम

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस