जागरण संवाददाता, भदोही: स्वच्छ भारत मिशन के तहत नगर पालिका द्वारा शहर के दस स्थानों पर बनवाए जा रहे सार्वजनिक शौचालयों में कुछ पर खतरे के बादल मंडराने लगे हैं। इस क्रम में राजकीय अस्पताल एमबीएस परिसर में निर्माणाधीन शौचालय का कार्य बुधवार को रोक दिया गया। उत्तर प्रदेश राज्य निर्माण सहकारी संघ लि निर्माण प्रखंड मीरजापुर से आए अवर अभियंता संदीप मालवीय की आपत्ति पर सीएमएस ने कार्य रुकवा दिया। हालांकि परिसर में ही शौचालय निर्माण के लिए दूसरी भूमि का चयन किया गया है।

स्वच्छ भारत मिशन के तहत जल्द से जल्द शहर को ओडीएफ करने की कवायद के तहत पालिका प्रशासन द्वारा दो करोड़ की लागत से शहर के अलग-अलग स्थानों पर दस सार्वजनिक शौचालयों का निर्माण इन दिनों युद्धस्तर पर कराया जा रहा है। हालांकि स्थान चयन में पालिका द्वारा बरती गई उदासीनता के कारण कई स्थानों पर विरोध के स्वर भी मुखर होने लगे हैं। इस बीच राजकीय चिकित्सालय परिसर स्थित ठीक कोतवाली के सामने चल रहे शौचालय के निर्माण कार्य पर बुधवार को उस समय ग्रहण लग गया जब उत्तर प्रदेश राज्य निर्माण सहकारी संघ लि. निर्माण प्रखंड मीरजापुर से आए अवर अभियंता संदीप मालवीय ने उक्त भूमि पहले से विद्युत उपकेंद्र हेतु आवंटित बताया।

अस्पताल को 24 घंटे निर्बाध विद्युत आपूर्ति हेतु उस स्थान को विद्युत उपकेंद्र के लिए पहले से चयनित किया गया है तथा संबंधित विभाग ने नक्शा आदि भी तैयार कर लिया है। संदीप मालवीय की आपत्ति के बाद सीएमएस डा. जयनरेश ने काम रोकवा दिया। इससे पालिका प्रशासन में हड़कंप मच गया। बहरहाल सीएमएस ने परिसर के दूसरी ओर की खाली भूमि पर शौचालय निर्माण की अनुमति दे दी है जिसे पालिका ने स्वीकार भी कर लिया है। बताते चलें कि ओडीएफ करने की आपाधापी में इन दिनों उक्त कार्य तेजी से चल रहा था तथा शौचालय भवन की बुनियाद डालकर दीवारों की जोड़ाई भी शुरू हो गई थी।

Posted By: Jagran