जागरण संवाददाता, बाबूसराय (भदोही) : क्षेत्र के सारीपुर गांव में चल रही रामलीला में छठे दिन बुधवार की रात प्रभु श्रीराम-सुग्रीव की मित्रता, बालि वध सहित अन्य लीलाओं का मंचन किया गया। शशिनाथ पांडेय ने राम-लक्ष्मण की आरती कर मंचन का शुभारंभ किया। मंचन के दौरान प्रभु श्रीराम मां सीता को खोजते हुए माता सबरी के आश्रम में पहुंचते हैं। वहां वह उन्हें प्रेम के जूठे बेर खिलाती है। भगवान उन्हें नवधा भक्ति प्रदान करते हैं।

सबरी के कहने पर ऋषिमुख पर्वत पर पहुंचते हैं जहां उनकी भेंट महाबली हनुमान से होती है। हनुमान उन्हें सुग्रीव के पास ले जाते हैं और राम का परिचय कराते हैं। इसके बाद श्रीराम बालि का वध कर सुग्रीव को राजा बनाते हैं। इसके पश्चात सीता की खोज शुरू होती है। मां सीता का पता लगाते हुए हनुमान लंका पहुंच जाते हैं। मां सीता से मिलने के बाद अक्षय कुमार का संहार करते हैं। जानकारी होने पर महाराजा रावण के आदेश पर इंद्रजीत उन्हें नागफास बांध देता है। हनुमान की पूंछ में आग लगवा दी जाती है, जिस आग से वह पूरी लंका को जलाकर राख कर देते हैं। यहीं मंचन समाप्त हो जाता है। अध्यक्ष श्यामधर ने बताया कि कोविड-19 को देखते हुए दीपावली के बाद जो मेला लगता है, उसे स्थगित किया गया है। इस मौके पर सुनील कुमार पाठक, अजय कुमार दुबे, बलजोर पाल, भोला दुबे, भाईजी दुबे, शमशेर यादव, अजीत यादव, संतोष दुबे आदि थे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021