जागरण संवाददाता, ज्ञानपुर (भदोही) : महाराजा चेतसिंह जिला अस्पताल ज्ञानपुर में दोपहर करीब साढ़े 12 बजे डीएम राजेंद्र प्रसाद के निरीक्षण में कई खामियां निकलकर सामने आईं। इमरजेंसी के बंद टॉयलेट को खोलने के लिए कहा। डीएम ने नल की टोटी चेक किया तो पानी नहीं आ रहा था। नाराजगी जाहिर की और फटकार लगाई। पानी आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए कहा। पैथालॉजी, एक्स-रे व लेबर रुम पहुंचे डीएम ने व्यवस्था दुरुस्त करने की नसीहत दी। चेताया कि गर्भवती महिलाओं के उपचार व प्रसूताओं को दिक्कत नहीं होनी चाहिए। इसके बाद ब्लड बैंक और इमरजेंसी वार्ड में भर्ती मरीजों के रजिस्टर व सभी वार्डों, पोषण पुनर्वास केंद्र, डेंगू वार्ड और ओपीडी की हकीकत देखी।

-

पुनर्वास केंद्र में बेड खाली मिलने पर भड़के डीएम

-जिला अस्पताल के निरीक्षण में पोषण पुनर्वास केंद्र में एक भी कुपोषित बच्चों को भर्ती न मिलने पर डीएम भड़क गए। नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि जिले में अति कुपोषित चार हजार से अधिक बच्चे होने के बावजूद सभी दस बेड खाली मिलने का मतलब गंभीर लापरवाही बरती जा रही है। जिला कार्यक्रम अधिकारी को पत्र लिखकर जवाब-तलब किया है। कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से सूची लेकर अतिकुपोषित व कुपोषित बच्चों को योजना का लाभ दिलाना सुनिश्चित करें।

-

उपलब्ध ब्लड व दवाओं की मांगी सूची

-जिला अस्पताल में निरीक्षण के वक्त जिलाधिकारी ने अस्पताल में उपलब्ध दवाओं व ब्लड बैंक में उपलब्ध ब्लड की सूची उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। औचक निरीक्षण के दौरान जिला अस्पताल में यूनीफार्म में एक भी चिकित्सक व स्वास्थ्य कर्मी नहीं मिले। हालांकि इसे डीएम ने गंभीरता से न लेकर अनदेखी कर दिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप