भदोही, जागरण संवाददाता :  औराई क्षेत्र के उगापुर के पास नरथुआ गांव में रविवार की देर रात जनरेटर में शार्ट सर्किट होने से तारों में लगी आग ने तबाही मचा दी। जनरेटर के तारों की आग एकता क्लब की ओर से स्थापित पूजा पंडाल के पर्दों तक जा पहुंची और पूरा पंडाल धू-धूकर जल उठा। आग ने कुछ ही क्षण में विकराल रूप धारण कर लिया। जान बचाकर भाग रहे लोगों पर जलते हुए पंडाल के पर्दे-बल्लियां गिरने लगीं।

आग की चपेट में आकर महदेवा गांव की एक वर्षीय गुंजा, पांच वर्षीय अंकुश, राजापुर गांव की 18 वर्षीय शिवांगी देवी की मौत हो गई। 45 वर्षीय जया देवी ने वाराणसी आकर दम तोड़ा। आग से 50 से अधिक लोग झुलस गए। झुलसे सभी लोग औराई, महदेवा, घोसिया, उपरौठ, सेउर जेठूपुर, उचेठा, भवानीपुर, पियरोपुर गांव के रहने वाले हैं। इनमें अधिकांश बच्चे और महिलाएं हैं। आग से झुलसने वाले 33 लोगों की हालत गंभीर देख उन्हें बीएचयू ट्रामा सेंटर रेफर किया गया।

देर रात 13 पीड़ितों को कबीरचौरा व दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल ले जाया गया। पांच पीड़ितों की हालत चिंताजनक है। कमिश्नरेट पुलिस ने जख्मी और झुलसे लोगों के सुरक्षित आगमन के लिए औराई से वाराणसी तक ग्रीन कारिडोर बनाया। रात 12 बजे तक उन्हें वाराणसी लाया जा चुका था। आग लगने की घटना के बाद मची भगदड़ में भी कई लोग जख्मी हो गए। आयोजकों ने पंडाल लगाने की अनुमति नहीं ली थी। रात करीब 12 बजे पुलिस ने आयोजन समिति के महामंत्री बबलू समेत पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया था।

हालत गंभीर होने पर ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया

नरथुआ गांव के पूजा पंडाल में आग लगने की सूचना मिलने के लगभग एक घंटा बाद जिला मुख्यालय से दो और औराई से दो दमकल की गाड़ियां मौके पर पहुंचीं। आग बुझने से पहले ही अपना रौद्र रूप दिखा चुकी थी। आसपास के ग्रामीण भी राहत-बचाव कार्य में तत्परता से जुटे। झुलसे लोगों को औराई सीएचसी, सूर्या ट्रामा सेंटर, आनंद नर्सिंग होम पहुंचाया गया।

यहां से 33 लोगों की हालत गंभीर होने पर ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया। कुछ घायलों का इलाज जिला अस्पताल में भी चल रहा है। मौके पर कमिश्नर योगेश्वर राम मिश्र, डीआइजी आरपी सिंह, डीएम गौरांग राठी, एसपी डा. अनिल कुमार के अलावा, सांसद रमेश बिंद व अन्य जनप्रतिनिधि पहुंचे और घायलों-झुलसे पीड़ितों की इलाज की समुचित व्यवस्था में जुटे रहे।

दुर्गा पूजा पंडाल में ऐसे लगी आग

रात करीब साढ़े आठ बजे पंडाल में आरती हो रही थी। जनरेटर चालू था। अंदर-बाहर बिजली के झालरों-लाइटिंग से सजावट की गई थी। इसी बीच जनरेटर से निकले तार में अचानक स्पार्किंग होने लगी। कुछ ही देर में पंडाल का एक तरफ का पर्दा जलने लगा। पंडाल के निर्माण में भी चमकीले कागज का प्रयोग अधिक किया गया था। इसी कारण आग भड़कते देर न लगी।

आग देखते ही लोगों में भगदड़ मच गई। इसी भगदड़ में काफी लोग जमीन पर गिर पड़े। आग बढ़ती गई और विकराल रूप धारण कर लिया। पर्दे का जला हिस्सा लोगों के ऊपर गिरने लगा। लोगों की चीख पुकार सुनकर आसपास के लोग दौड़ पड़े। ट्रैक्टर, आटो में भरकर लोगों को सीएचसी तक लाए। झुलसे लोगों की संख्या अधिक होने के कारण उन्हें आसपास के अस्पतालों तक भी पहुंचाया गया।

यह भी पढ़ें : भदोही में दुर्गा पूजा पंडाल में लगी भीषण आग की लपटें देख सहमे लोग, अस्‍पताल में इलाज के लिए अफरा-तफरी

यह भी पढ़ें : भदोही में पूजा पंडाल में आग : शाम को आरती के समय चालू था जनरेटर, तार में स्पार्किंग होते ही जलने लगे पर्दे

यह भी पढे़ं :  भदोही के पूजा पंडाल में लगी आग मामले में जांच करेगी चार सदस्‍यीय एसआइटी की टीम, एक सप्‍ताह में देंगे रिपोर्ट

यह भी पढे़ं : भदोही के पूजा पंडाल में आग : ग्रीन कारिडोर बनाकर झुलसे 33 लोगों को पहुंचाया बीएचयू के सर सुंदरलाल अस्‍पताल

Edited By: Saurabh Chakravarty

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट