जागरण संवाददाता, लालानगर (भदोही) : पूर्वोत्तर रेलवे के मंडुआडीह-प्रयागराज रेलखंड से होकर चलाई जा रही वंदे भारत एक्सप्रेस की ठहराव ज्ञानपुर रोड रेलवे स्टेशन पर नहीं दिया गया है। इसके बाद भी ढाई माह में पांच बार ट्रेन के पहिए ज्ञानपुर रोड रेलवे स्टेशन पर थम चुके हैं। कभी मानव तो कभी मवेशी ने ट्रेन की रफ्तार रोक दी। ट्रेन चालकों की सतर्कता ने एक बार गाय तो एक बार युवक को बचाकर नई जिदगी देने का काम किया।

वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन का संचालन पहले वाराणसी वाया भदोही, जंघई होते प्रयागराज के लिए किया गया था। संचालन शुरू होते ही कई स्थानों पर ट्रेन पर पथराव की घटनाएं सामने आई। कुछ दिन बाद उसका मार्ग परिवर्तित कर दिया गया। वाराणसी से प्रयागराज के बीच एक भी स्टापेज नहीं दिया गया है। हालांकि इसके बाद एक बार जहां रेललाइन पार कर रही गाय को सामने देख चालक ने ट्रेन खड़ी की तो गत 15 मई को सिगनल फेल होने से करीब 10 मिनट तक ट्रेन ज्ञानपुर रोड रेलवे स्टेशन पर खड़ी करना पड़ा। इसके बाद नीलगाय कट जाने से रफ्तार पर ब्रेक लगी तो 15 जून को कवलापुर के समीप आत्महत्या की नियत से रेलवे ट्रेक पर युवक को लेटा देख चालक ने बड़ी सतर्कता से साथ ट्रेन को खड़ी कर दिया। जबकि गत 12 जुलाई को अचानक विद्युत सप्लाई बंद होने से वंदे भारत एक्सप्रेस को 20 मिनट तक ज्ञानपुर रोड रेलवे स्टेशन पर खड़ा होना पड़ा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप