जासं, ज्ञानपुर (भदोही) : मलेरिया पर रोकथाम के लिए दवाओं के छिड़काव के लिए पर्याप्त बजट है। उसे खर्चकर विभागीय स्तर से छिड़काव कर रोकथाम की प्रगति का दावा भी किया जाता है लेकिन अस्पतालों में मलेरिया बुखार से पीड़ित रोगियों की भीड़ अधिकारियों के दावे की पोल खोल रही है। छिड़काव पर खर्च की जानकारी जब आरटीआइ के तहत मांगी गई तो कार्यालय में खलबली मच गई। सीएमओ ने जिला मलेरिया अधिकारी को समयावधि के भीतर सूचना देने का निर्देश दिया है।

आवेदक ने सूचना का अधिकार अधिनियम के अधीन 20 नवंबर को मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में आवेदन कर वर्ष 2017 से 19 के अंतराल में मच्छररोधी दवाओं के छिड़काव, डेंगू व संक्रामक बीमारियों पर रोकथाम के मद में प्राप्त व व्यय धनराशि, क्रय सामग्री, दवाओं का छिड़काव किए गए गांव व नगरों की सूची व रोकथाम पर प्रगति की जानकारी मांगी थी। सीएमओ डा. लक्ष्मी सिंह ने जिला मलेरिया अधिकारी को मांगी गई जानकारी समयांतर्गत आवेदक को उपलब्ध कराकर एक प्रति कार्यालय में भी प्रस्तुत करने को कहा है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस