जागरण संवाददाता, ज्ञानपुर (भदोही) : पौधरोपण के लिए वन विभाग ने 36 फीसद गड्ढा खोदा है। खोदाई के बाद गड्ढों में खाद व पानी डालने का प्रावधान है। खोदाई के महीनों बाद भी गड्ढे खाली हैं। खाद तो नहीं भरा गया, बल्कि बारिश होने से गड्ढों में मिट्टी भर गई है। खाद से पौधे स्वस्थ और हरा-भरा रहते हैं। बगैर खाद के पौधे रोपित किए जाने पर पोषक तत्व न मिलने से पौधे कैसे जिदा रहेंगे। औराई के सिउर गांव में पौधरोपण के लिए भूमि चयनित कर गड्ढा तो खोद दिया गया है लेकिन गड्ढे में खाद नदारद है। यही हाल जिले में अन्य स्थलों पर खोदे गए गड्ढों का है। उधर विभाग गड्ढों में खाद डालने के लिए बजट का रोना रो रहा है, जो गले के नीचे नहीं उतर रहा है।

--------

25 जून तक खोदना था गड्ढा

- 2019-20 में 19.38 लाख पौधरोपण का लक्ष्य है। मुख्यमंत्री के फरमान के बाद सभी पौधों को स्वतंत्रता दिवस के दिन एक साथ रोपित करना है। डीएम ने 25 जून तक गड्ढा खोदाई का समय तय किया था। विभागों ने लापरवाही बरती, वन विभाग का काम 36 प्रतिशत पूरा हो चुका है लेकिन दूसरे 22 विभाग लापरवाही बरत रहे हैं। वे गड्ढा खोदाई का मानक भी पूरा नहीं कर रहे हैं। 64 फीसद गड्ढे खोदने के लिए एक माह का समय और शेष है।

--------

- पौधरोपण के लिए गड्ढों में बालू व खाद डालने की व्यवस्था है। अभी खाद के लिए बजट नहीं मिला है। बजट मिलने के बाद खाद की भराई की जाएगी। निर्धारित तिथि 15 अगस्त को लक्ष्य के सापेक्ष एक साथ पौधरोपण किया जाएगा। इसके पहले सभी तैयारी पूरी कर ली जाएगी।

-- एपी पाठक, प्रभागीय निदेशक, सामाजिक वानिकी

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप