जागरण संवाददाता, ज्ञानपुर (भदोही) : भदोही में उपद्रवियों तक पहुंचना पुलिस के लिए चुनौती है। पोस्टर जारी करने के छह दिन बाद भी मात्र 17 उपद्रवी ही चिह्नित भी किए जा चुके हैं। वह भी पुलिस की पकड़ से बाहर हैं। क्राइम ब्रांच और सर्विलांस टीम को उनका कोई लोकेशन नहीं मिल पा रहा है। थक-हार कर पुलिस अब कोर्ट में कानूनी कार्रवाई में जुटी हुई है। खुफिया विभाग भी फेल होती दिख रही है।

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर प्रदेश के हर हिस्सों में हिसात्मक बवाल हो चुके थे, लेकिन भदोही इससे अछूता था। 20 दिसंबर को जुमे की नमाज के बाद आखिरकार भदोही में बवाल हो ही गया। पुलिस ने 15 उपद्रवियों को संगीन धाराओं में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था जबकि 24 आरोपितों के खिलाफ शांति भंग करने की कार्रवाई की थी। मामले में 59 उपद्रवियों का पोस्टर जारी किया गया था। एसपी ने क्राइम ब्रांच की विवेचना सेल को स्थानांतरित कर दिया है। क्राइम ब्रांच भी उपद्रवियों तक पहुंचने में फेल होती दिख रही है। अभी तक चिह्नित उपद्रवियों की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। बताया जा रहा है कि पुलिस को उपद्रवियों का सुराग नहीं मिल पा रहा है। विवेचना कर रही टीम अब कोर्ट से कानूनी कार्रवाई में जुटी हुई है। बवाल हुए एक पखवारा बीत गया, लेकिन अभी तक अज्ञात उपद्रवियों तक पुलिस के हाथ नहीं पहुंच पाए हैं। पहचान कर भी अंजान बने हुए हैं लोग

पुलिस की ओर से पोस्टर जारी होते ही हर चेहरे को हर कोई पहचान रहा है, लेकिन कोई पुलिस को बताना नहीं चाह रहा है। पुलिस यदि किसी से उनके संबंध में जानकारी भी लेना चाहती है तो लोग बगल झांकने लग रहे हैं। यही नहीं उन्हें इतना इधर-उधर के तथ्य बता दिए जा रहे हैं कि चिह्नित आरोपित आसानी से आंखों से ओझल हो जा रहे हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस